मेरा सौंजडया 12 गति बैशाख गज्जा का मेला ऐ जाणु !! प्रीती चौहान का ऑडियो रिलीज़ !!

0
646
preeti chauhan

उत्तराखंड में बैसाखी को बिखोती कहते हैं। वसंत ऋतु के आगमन की खुशी में बैसाखी मनाई जाती है। बैसाखी मुख्यत: पंजाब या उत्तर भारत में हर्षोल्लास के साथ मनाई जाती है, लेकिन इसे भिन्न-भिन्न क्षेत्रों में भिन्न-भिन्न नाम (बैसाख, बिशु, बीहू व अन्य) से जाना जाता है। यह त्यौहार अक्सर 13 या 14 अप्रैल को मनाया जाता है। बैसाखी रबी की फसल के पकने की खुशी का प्रतीक है।

जरूर पढ़ें : मैलोडी किंग जितेंद्र पंवार का गीत चल मेरी गैल्या का वीडियो रिलीज़!! अमित वी कपूर अभिनय की भूमिका में दिखे !

उत्तराखण्ड में इस दिन विभिन जगहों पर मेलों का आयोजन होता है,और कई वर्षों बाद मेले में अपने साथियों से मुलाकात होती है ,हर्षोउल्लास और जलेबी ,पकौड़ियों की खुसबू मेले में चारों ओर फैली होती है ,कई गीतों के जरिए उत्तराखण्ड में लगने वाले मेलों का आपने जिक्र सुना ही होगा ,जिनमें 2 गति बैशाख सुरमा मेरा मुल्क मेला,बैशाख लगलू खोला मेलों कू मैनु आलु। जैसे कई अन्य लोकप्रिय गीत।

जरूर पढ़ें : राकेश पंवार का पहाड़ी ब्रेकअप सॉन्ग ‘दिल तोडिगे अंजलि ‘पार्ट 2 रिलीज़ !! पहला पार्ट भी काफी सुपरहिट !!

12 गति बैशाख टिहरी जिले के गज्जा में मेले का आयोजन होता है और इसी मेले में अपने सौंजडया को बुला रही हैं नवोदिता गायिका प्रीती चौहान अपने गीत में ऐजे घुमण तुम गज्जा का मेला।
गीत में संगीत दिया है रणजीत सिंह ने। गीतकार हैं दिगविजय चौहान। ऑडियो सपोर्ट के लिए प्रीती चौहान ने प्रोमोशनल वीडियो में गायिकी का आनंद लेती नजर आई।

जरूर पढ़ें : जागर सम्राट प्रीतम भरतवाण ने गाया “रथ हंत्या जागर “प्रसंग! जागर सुनकर दर्शक हुए भावुक !!

बैसाखी का इतिहास——–
मान्यता है कि गुरु गोविंद सिंह ने वैशाख माह की षष्ठी को खालसा पंथ की स्थापना की थी, जिस कारण बैसाखी पर्व मनाया जाता है। गुरु गोविंद सिंह ने इस मौके शीशों की मांग की, जिसे दया सिंह, धर्म सिंह, मोहकम सिंह, साहिब सिंह व हिम्मत सिंह ने अपने शीशों को भेंट कर पूरा किया। इन पांचों को गुरु के ‘पंच-प्यारे’ कहा जाता है, जिन्हें गुरु ने अमृत पान कराया।

जरूर पढ़ें : माँ एक अनमोल रत्न (उत्तराखण्डी लघु फ़िल्म) रिलीज़ !! पलायन और वृधाश्रम की स्थिति पर केंद्रित है फिल्म जरूर देखें !!

आज आरम्भ होने वाला विक्रमी संवत नेपाल का राष्ट्रीय संवत है। वैसे ही जैसे शक शालिवाहन भारत का राष्ट्रीय संवत है। हर भारतीय संवत्सर का एक नाम होता है और उस कालक्षेत्र का एक-एक राजा और मंत्री भी। संवत्सर के पहले दिन पडऩे वाले वार का देवता/नक्षत्र संवत्सर का राजा होता है और वैसाखी के दिन पडऩे वाले वार का देवता/नक्षत्र मंत्री होता है। नव वर्ष का यह बैसाख संक्रांति उत्सव उत्तराखंड में बिखोती, बंगाल में पोइला बैसाख, पंजाब में बैसाखी, उडीसा में विशुवा संक्रांति, केरल में विशु, असम में बिहु और तमिलनाडु में थइ पुसम के नाम से मनाया जाता है। श्रीलंका, जावा, सुमात्रा तथा दक्षिण-पूर्व एशिया के देशों कम्बोडिआ, लाओस, थाईलैंड में भी संक्रांति को नववर्ष का उल्लास रहता है। वहाँ यह पारम्परिक नव वर्ष सोंग्रन या सोंक्रान के नाम से आरम्भ होगा।
भारतीय संवत्सर साठ वर्ष के चक्र में बन्धे हैं और इस तरह विक्रम सम्वत के हर नये वर्ष का अपना एक ऐसा नाम होता है जो कि साठ वर्ष बाद ही दोहराया जाता है। साठ वर्ष का चक्र ब्रह्मा,विष्णु और महेश देवताओं के नाम से तीन बीस-वर्षीय विभागों में बंटा है। दक्षिण भारत (तेलुगु/कन्नड/तमिल) वर्ष के हिसाब से इस संवत का नाम खर है। जबकि आज आरम्भ होने वाला विक्रम सम्वत्सर उत्तर भारत में क्रोधी नाम है।

जरूर पढ़ें : गढ़रत्न नेगी ने गाया अपने भूमियाल देव ‘कंडोलिया बाबा’ का स्तुति जागर !! जानें कंडोलिया देव का इतिहास ! पढ़ें पूरी रिपोर्ट

आप भी घूम आइये किसी मेले में इस गीत के साथ।
Hillywood News
Rakesh Dhirwan

Facebook Comments