टिहरी की ये नथ आपकी खूबसूरती में लगाती है चार चांद, दुनियाभर में है यह मशहूर

0
1097
टिहरी की ये नथ आपकी खूबसूरती में लगाती है चार चांद, दुनियाभर में है यह मशहूर

देवभूमि उत्तराखंड का पहनावा पूरे देश में मशहूर है।अपनी परंपरागत वेशभूषा के लिए उत्तराखंड दुनिया भर में मशहूर है।आभूषण हर महिला के श्रृंगार का अभिन्न हिस्सा है। महिलाएं रूप निखारने के लिए तरह-तरह के आभूषण शुरु से ही पहनती आई हैं।उत्तराखंड की महिलाओं को अलग पहचान दिलाने वाला और उनका रूप निखारने  वाला , ऐसा ही एक आभूषण है उत्तराखंडी नथ, पहाड़ी नथ/नथूली  जिसकी अपनी अलग ही पहचान है , और उनके बीच अलग ही पहचान रखती है टिहरी की नथ l

यह भी पढ़े : आशीष चमोली हुए रूचि की माया के शिकार, कुछ इस तरह किया प्रेम का इज़हार 

जिस तरह से उत्तराखंड प्रदेश दो भाग गढ़वाल और कुमाऊं में बंटा हुआ है ठीक उसी तरह से उत्तराखंडी नथ भी मुख्यतः दो प्रकार की होती हैं।वैसे तो पहाड़ी क्षेत्र में नथ ही मशहूर है लेकिन टिहरी की नथ उत्तराखंड में सबसे ज्यादा मशहूर है।ऐसा माना जाता है कि नथ का इतिहास तब से है जब से टिहरी में राजा रजवाड़ों का राज्य था और राजाओं की रानियां सोने की नथ पहनती थी।ऐसी मान्यता रही है कि परिवार जितना सम्पन्न होगा महिला की नथ उतनी ही भारी और बड़ी होगी। जैसे-जैसे परिवार में पैसे और धनःधान्य की वृद्धि होती थी नथ का वज़न भी बढ़ता जाता था। हालांकि बदलते वक्त के साथ युवतियों की पसंद भी बदल रही है, और भारी नथ की जगह अब स्टाइलिश और छोटी नथों ने ले ली है ।लगभग दो दशक पहले तक नथ का वज़न तीन तोले से शुरु होकर पांच तोले और कभी कभी 6 तोला तक रहता था। नथ की गोलाई भी 35 से 40 सेमी तक रहती थी। लेकिन वक्त के साथ सब कुछ घटता नजर आ रहा है l

यह भी पढ़े : जानिए देवलगढ़ के इस खास मंदिर का इतिहास, कैसे हुआ माता गौरा का यहां निवास 

उत्तराखंड की पारंपरिक नथ महिलाओं के श्रृगांर के लिए सबसे महत्तवपूर्ण है।टिहरी गढ़वाल की नथ सोने की बनती है और उस पर की गई चित्रकारी उसे दुनिया भर में मशहूर करती हैं।नथ की महत्ता इतनी ज्यादा है कि नथ पहाड़ के किसी भी जरुरी और पवित्र उत्सव में पहना ही जाता है जैसे कि पुजा पाठ,शादी आदि।नथ का वजन और उसमें लगे हुए मोती परिवार और नथ पहनने वाली और उसके धन धान्य और स्टेटस को दर्शाता है।आजकल नथ का आकार मार्डन कर दिया गया है लेकिन पारंपरिक नथ की बात और शान अलग ही होती है।उत्तराखंडी महिलाओं के लिए पांरपरिक नथ एक पूंजी की तरह है जिसको महिला पीढी दर पीढ़ी संजोती हैं और उत्तराखंड की लगभग हर शादी-शुदा महिला के पास नथ जरुर होती ही है। वही गढ़वाल में नथ पर खास बात यह भी बताई जाती है की लड़की के मामा लड़की को शादी के दिन नथ देते हैं, जिसको पहन कर लड़की शादी करती है।

 

उत्तराखंड फिल्म एवं संगीत जगत की सभी ख़बरों को विस्तार से देखने के लिए हिलीवुड न्यूज़ को यूट्यूब पर सब्सक्राइब करें।