फिर उठी नेगी दा को पदमश्री देने की मांग,भेजे जा रहे ऑनलाइन नॉमिनेशन।

0
130
demand-for-giving-padma-shri-to-negi-da-again-on-social-media-online-nominations-being-sent

उत्तराखंड के गढ़रत्न नरेंद्र सिंह नेगी उत्तराखंड संगीत जगत का वो स्तम्भ हैं जिनके बिना उत्तराखंड के संगीत की कल्पना भी नहीं की जा सकती,नेगी दा ने अपनी लेखनी से पहाड़ के दुःख दर्द को गीत के रूप में ढाला है,अपने गीतों से सरकारी तख़्त तक हिला देने वाले लोकगायक नेगी को उत्तराखंडी श्रोताओं ने अपने दिलों में बसाया है,इनके प्रसंशकों में हर आयु वर्ग के श्रोता शामिल हैं जिन्होंने भी इनकी आवाज सुनी है।लेकिन इनके प्रसंशकों के दिलों में एक बात की टीस जरूर रह गई है कि नेगी दा को वो सम्मान क्यों नहीं मिल पाया जिसके वो हकदार हैं,सोशल मीडिया पर एक बार फिर इन्हें पदमश्री सम्मान दिलाने की माँग उठने लगी है। 

demand-for-giving-padma-shri-to-negi-da-again-on-social-media-online-nominations-being-sent

 

यह भी पढ़ें: मयालू बौजी वीडियो रिलीज होते ही वायरल, नए अंदाज में नजर आई कंचन भंडारी।

अपने गीतों से उत्तराखंड वासियों के दिलों में नेगी दा ने अपनी ख़ास जगह बनाई है,दशकों से अपने गीतों से उत्तराखंड संगीत जगत को विश्व पटल पर पहचान दिलाने वाले नेगी दा के प्रसंशक एक बार फिर से उन्हें पदमश्री सम्मान दिलाने की मुहिम छेड़ चुके हैं,सोशल मीडिया पर ऑनलाइन नॉमिनेशन के जरिए भारत सरकार से अपील की जा रही है कि गढ़रत्न नेगी को पदमश्री सम्मान से नवाजा जाना चाहिए।

यह भी पढ़ें: रिलीज़ होते ही छाई भानुमति गजे सिंह की जोड़ी,दर्शक कर रहे वीडियो की तारीफ़।

ऐसा नहीं है कि नेगी दा को पदमश्री उठाने की मांग पहली बार उठ रही हो उनके प्रसंशक समय-समय पर इस मांग को उठाते रहते हैं लेकिन भारत सरकार आज तक इस मांग को पूरा नहीं कर पाई है,अब ऑनलाइन नॉमिनेशन के जरिए नेगी दा को पदमश्री दिलाने के लिए आवेदन भेजे जा रहे हैं।

यह भी पढ़ें: धनराज संगीता की जुगलबंदी के कायल हुए श्रोता,लम्बी लटुलि गीत हुआ सुपरहिट।

गृह मंत्रालाय की वेबसाइट पर पदम अवार्ड्स के लिए 15 सितम्बर तक नॉमिनेशन होने हैं,नेगी दा के प्रसंशक बढ़ चढ़कर इसपर नेगी दा के नाम की सिफारिश कर रहे हैं।कहते हैं कि अगर उत्तराखंड के बारे में जानना है तो नरेंद्र सिंह नेगी के गीतों को सुनिए,पहाड़ के दर्द,रीति रिवाज,हर्ष उल्लास को नेगी दा ने अपने कंठ एवं कलम से सजाया है।उत्तराखंड की संस्कृति के ध्वज वाहक नेगी दा एक गीतकार,संगीतकार एवं कवि के रूप में जाने जाते हैं शायद ही कोई ऐसा विषय रह गया हो जिसपर इन्होने गीत ना लिखा हो और कोई श्रोता उससे ना जुड़ पाया हो।पहाड़ की नारियों का दर्द हो,प्रेम प्रसंग के गीत हों रीति रिवाज हों या समाज को प्रेरित करते गीत हों नेगी दा के हर गीत को दर्शकों ने दिलों में बसाया है।

यह भी पढ़ें: उत्तराखंड पौड़ी गढ़वाल के राकेश कुकरेती का बॉलीवुड में शानदार सफर।

आप भी चाहते हैं कि गढ़रत्न नेगी दा को पदमश्री से नवाजा जाए तो यहाँ आवेदन करें।

https://applypadma.mha.gov.in/

उत्तराखंड फिल्म एवं संगीत जगत की सभी ख़बरों को विस्तार से देखने के लिए हिलीवुड न्यूज़ को सब्सक्राइब करें।