सात समोद्र पार गीत से छलका लाखों प्रवासियों का दर्द, गायिकी को किया पसंद

0
483
सात समोद्र पार गीत से छलका लाखों प्रवासियों का दर्द, गायिकी को किया पसंद

गीतों के माध्यम से किसी भी भाव को दर्शाना बेहद आसान हो जाता है, इनमें से खुदेड़ गीत ऐसी विधा है जहां अपने मन की पीड़ा को गीत के माध्यम से सामने लाया जा सकता है, एक ऐसी ही कहानी को बंया करते हुए सात समोद्र पार (Saat Samundar Paar) गीत को लाखों दर्शकों ने पसंद किया है. 

यह भी पढ़ें: मनदीप सिंह के स्वरों में तेरी मुखड़ी वीडियो रिलीज,संदीप संग जमी प्रिया की जोड़ी।

उत्तराखंड लोकगायक विरेंद्र राजपूत एवं स्वरकोकिला मीना राणा के स्वरों में सात समोद्र पार खुदेड़ गीत ने लाखों दर्शकों के दर्द को छलका दिया है. इस गीत को सागर कृष्णा प्रोडक्शन (sagarkrishnaproduction​) ने रिलीज किया. गीत की रचना विरेंद्र राजपूत ने ही की है. इसे रणजीत सिंह ने संगीतबद्ध किया है. दर्शक इसे काफी पसंद कर रहे हैं औऱ यूट्यूब पर गीत ने 2 लाख व्यूज बटोर लिए हैं.

इस गीत के माध्यम से नौकरी के लिए घर से दूर विदेश गए प्रवासी उत्तराखंडी के दर्द को दिखलाया है. जीवनयापन के लिए कई संघर्षों से जूझना पड़ता है. उत्तराखंड के अधिकांश लोग होटेलियर हैं या फिर सेना में भर्ती होकर देश की सेवा कर रहे हैं. इसके अलावा उत्तराखंड वासी अपनी मेहनत, लगन के लिए जाने जाते हैं, औऱ विदेश की धरती पर भी उत्तराखंड का नाम रोशन कर रहे हैं.

यह भी पढ़ें: मंगला मिजाज्य में नए अंदाज में नजर आए पन्नू गुसाईं, आप भी देखें।

विरेंद्र राजपूत ने विदेश में कार्यरत एक प्रवासी उत्तराखंडी के दर्द को मार्मिक शब्दों से दर्शाया है,भले ही नौकरी के लिए विदेश गए व्यक्ति का संघर्ष दुनिया देखती है लेकिन उस नारी के तप को कोई नहीं जान पाता जो घर परिवार निर्माण में अहम् भूमिका निभाती है. वीडियो को धनवीर खरोला ने इसे निर्देशित किया है. जितेंद्र राणा इसके निर्माता हैं. जो हर बार कुछ न कुछ नया लेकर आते हैं.  वीडियो का फिल्माकंन देवभूमि प्रोडक्शन औऱ ड्रोन वर्क राजेश आर्यन द्वारा किया गया है.

वहीं वीडियो में यशपाल नेगी के साथ शालिनी सुंदरियाल पति-पत्नी के किरदार में नजर आए. दोनों कलाकारों ने स्क्रीन पर दूर होने के दर्द को बखूबी प्ले किया है. साथ ही एक्सप्रेशन भी दमदार नजर आए. इस वीडियो में दिखाया जाता है कि यशपाल विदेश में होटेलियर होते हैं जो छुट्टी लेकर घर आए होते हैं लेकिन छुट्टी खत्म होते ही उन्हें जाना पड़ता है. और इसी दर्द को बेहतरीन तरीके उकेरा है. जिसे दर्शकों के दिलों को छुआ और आखें नम तक कर दी है. बता दें कि इससे पहले भी विरेंद्र राजपूत ने कई गीतों से प्रवासीयों के दर्द को दर्शाया है.

यह भी पढ़ें: दर्शकों का इतंजार हुआ खत्म, मरोड़ गीत रिलीज होते ही मचा रहा है धमाल।

आप भी देखिए सात समोद्र पार ।

उत्तराखंड फिल्म जगत की ताजातरीन जानकारी देखिए हिलीवुड प्राइम टाइम पर।