महिलाओं के हक़ में सुप्रीम कोर्ट का बड़ा फैसला

0
41
महिलाओं के हक़ में सुप्रीम कोर्ट का बड़ा फैसला

सुप्रीम कोर्ट ने महिलाओं के हक में आज एक बड़ा फैसला दिया. गर्भपात के मामले में विवाहित और अविवाहित का भेद मिटाते हुए सुप्रीम कोर्ट ने गुरुवार को कहा कि भारत सभी महिलाएं, चाहे विवाहित हों या अविवाहित, सुरक्षित और कानूनी गर्भपात की हकदार हैं l

यह भी पढ़े : उत्तराखंड की प्रीति भंडारी का क्रिकेट टीम में हुआ चयन, पढ़ें रिपोर्ट

सुप्रीम कोर्ट ने मेडिकल टर्मिनेशन ऑफ प्रेग्नेंसी एक्ट में संशोधन करते हुए कहा कि विवाहित महिला की तरह अविवाहित को भी गर्भपात कराने का अधिकार है. दरअसल, सुप्रीम कोर्ट ने (MTP) कानून और इससे संबंधित नियमों के बदलाव को लेकर यह फैसला सुनाया है l

यह भी पढ़े : ‘कोड नेम तिरंगा’ का ट्रेलर हुआ रिलीज, दमदार एक्शन मोड में दिखी परिणीति

आपको बता दें की जस्टिस डीवाई चंद्रचूड़ की बेंच ने कहा कि एक अविवाहित महिला को अनचाहे गर्भ का शिकार होने देना मेडिकल टर्मिनेशन ऑफ प्रेग्नेंसी (MTP) अधिनियम के उद्देश्य और भावना के विपरीत होगा. सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि कहा कि 2021 के संशोधन के बाद मेडिकल टर्मिनेशन ऑफ प्रेग्नेंसी एक्ट की धारा-3 में पति के बजाय पार्टनर शब्द का उपयोग किया गया है. यह अधिनियम में अविवाहित महिलाओं को कवर करने के लिए विधायी मंशा को दर्शाता है, इसके साथ ही कोर्ट ने एम्स निदेशक को एक मेडिकल बोर्ड का गठन करने के लिए कहा जो यह देखेगा कि गर्भपात से महिला के जीवन को कोई खतरा तो नहीं होगा l

हिलीवुड न्यूज़ पर उत्तराखंड फिल्म एवं संगीत जगत की ख़बरें देखिए हमारे यूट्यूब चैनल पर भी।