उत्तराखंड राज्य स्थापना दिवस के दिन राम मंदिर विवाद पर आया सुप्रीम कोर्ट का ऐतिहासिक फैसला

0
227

Ram Temple

आज उत्तराखंड वासियों के लिए बहुत बड़ा दिन है क्योंकि आज के दिन ही उत्तराखंड वासियों को उत्तरप्रदेश से अलग एक अपना राज्य प्राप्त हुआ था। आज पुरे उत्तराखंड में यह दिन खुशियों के साथ मनाया जा रहा है वहीँ दूसरी तरफ संपूर्ण भारत देश भी आज यह दिन विशेष है ,क्युकी आज के दिन सुप्रीम कोर्ट ने विवादित अयोध्या में राम मंदिर के ऊपर अपना फैसला सुनाने का ऐलान किया है।

मौसम बदल रहा अपना रूख, गुरुवार को फिर से हुई पहाड़ो में बर्फबारी

आपको बता दें की आयोध्या में राम मंदिर को लेकर विवाद काफी समय से चला आ रहा है। यह विवाद न सिर्फ अयोध्या का अपितु पूरे देश का मुद्दा बनकर रह गया था। बीते शुक्रवार देर को सुप्रीम कोर्ट ने इस विवाद के ऊपर शनिवार यानी आज अपना फैसला सुनाने का ऐलान किया। देर रात व अचानक ऐलान करने का एक कारण यह भी बताया गया की अचानक हुए ऐलान से समाजिक उपद्रव को किसी भी प्रकार का आतंक या उपद्रवता फैलाने का समय न मिल पाए।

Ram Temple

पहाड़ में खुशियां ले आया इगास का त्यौहार

सुबह से ही राम मंदिर के फैसले को लेकर लोग काफी उत्सुक नजर आ रहे थे। सबके जुबा पर राम मंदिर के फैसले को जानने की बैचेनी थी। फैसले व सुरक्षा को मध्यनजर रखते हुए सरकार ने देश भर में हाई अलर्ट जारी कर दिया। कई विद्यालयों में भी अवकाश घोषित कर दिया। उत्तराखंड में आज के दिन माहौल अलग नजर आया क्योकि आज के दिन उत्तराखंड राज्य का गठन हुआ था पूरे राज्य में ख़ुशी का माहौल है।

प्रकृति के प्रति प्यार की मिशाल कायम कर रह रही पहाड़ की 76 वर्षीया महिला

यह ख़ुशी को दोगुना बढ़ा दिया सुप्रीम कोर्ट के फैसले ने। यह फैसला बिना किसी पक्षपात किये राम मंदिर के पक्ष में रहा। साथ ही सुप्रीम कोर्ट के चीफ जस्टिस रंजन गोगई ने फैसला सुनाने के साथ साथ कहा की यह फैसला देशहित व दोनों पक्षों की दलीलों को मध्यनजर रखते हुए लिया गया है। अतः दोनों पक्षों को यह फैसला बिना किसी संकोच के मनना होगा। फैसला हिन्दू पक्ष में आने के गृहमंत्री अमित शाह ने कहा की – श्रीराम जन्मभूमि पर सर्वसम्मति से आये सर्वोच्च न्यायालय के फैसले का मैं स्वागत करता हूं। मैं सभी समुदायों और धर्म के लोगों से अपील करता हूँ कि हम इस निर्णय को सहजता से स्वीकारते हुए शांति और सौहार्द से परिपूर्ण ‘एक भारत-श्रेष्ठ भारत’ के अपने संकल्प के प्रति कटिबद्ध रहें।

Ram Temple

आगे उन्होंने कहा की मुझे पूर्ण विश्वास है कि सर्वोच्च न्यायालय द्वारा दिया गया यह ऐतिहासिक निर्णय अपने आप में एक मील का पत्थर साबित होगा है। यह निर्णय भारत की एकता, अखंडता और महान संस्कृति को और बल प्रदान करेगा। शाह ने कहा कि दशकों से चले आ रहे श्री राम जन्मभूमि के इस कानूनी विवाद को आज इस निर्णय से अंतिम रूप मिला है। मैं भारत की न्याय प्रणाली व सभी न्यायमूर्तियों का अभिनन्दन करता हूँ। उन्होंने कहा कि श्री राम जन्मभूमि कानूनी विवाद के लिए प्रयासरत, सभी संस्थाएं, पूरे देश का संत समाज और अनगिनत अज्ञात लोगों जिन्होंने इतने वर्षों तक इसके प्रयास किया मैं उनके प्रति कृतज्ञता व्यक्त करता हूँ। इस ऐतिहासिक फैसले के बाद पुरे देश में ख़ुशी की लहर है। राम मंदिर के समर्थको ने राम नाम की जय जयकार से इस फैसले का स्वागत किया।

Facebook Comments