किंग खान शाहरुख के 21 साल के बेटे आर्यन नजर आएंगे लीड रोल में

0
217

बहुत जल्द बाप बेटे की कहानी द लॉयन किंग इस बार एक नए रूप में भारत में जल्द ही आने वाली है इस फिल्म की कहानी पिछले 25 साल से सबसे हिट कहानी रही है उम्मीद है यह जब भारत पहुंचेगी तो डिजनी इंडिया नया इतिहास रच देगी। जी हां, देश के सारे बड़े स्टूडियोज जिन कोशिशों में कामयाब नहीं हो पाए, वह कारनामा डिजनी ने कर दिखाया है। और, ये कारनामा है किंग खान शाहरुख के 21 साल के बेटे आर्यन को किसी फिल्म के लीड रोल के लिए राजी कर लेना।

किंग खान शाहरुख के 21 साल के बेटे आर्यन नजर आएंगे लीड रोल में

शाहरुख और आर्यन इस फिल्म में भी बड़े पर्दे पर बाप-बेटे की ही भूमिकाओं में सुनाई देंगे। जी हां, दिखाई इसलिए नहीं देंगे क्योंकि ये दोनों एक साथ काम करने जा रहे हैं फिल्म द लॉयन किंग में। 3 साल पहले अपनी एक हिट कहानी द जंगल बुक को नए अवतार में पेश कर भारत में कामयाबी का स्वाद चख चुकी अंतर्राष्ट्रीय कंपनी डिजनी अब अपनी एक और सुपरहिट फिल्म द लायन किंग का नया संस्करण अगले महीने रिलीज करने जा रही है
द लायन किंग के इस संस्करण में एनीमेशन की नवीनतम तकनीक का इस्तेमाल किया है। फिल्म की कहानी है जंगल के राजा मुफासा और उसके बेटे सिम्बा की। द लॉयन किंग के हिंदी संस्करण में मुफासा की आवाज बने हैं शाहरुख खान और आर्यन की आवाज सुनाई देगी मुफासा के बेटे सिम्बा के तौर पर।

चैत्वाली के बाद एक हिट की तलाश में अमित सागर, ‘सच्ची त्यारा सौं’ में नहीं चला स्वरों का जादू

शाहरुख खान, ‘द लॉयन किंग ऐसी फिल्म है जिस पर मेरा पूरा परिवार फिदा रहा है। हमारे दिल में इस फिल्म के लिए हमेशा एक खास जगह रही है। एक पिता के तौर पर मैं मुफासा के किरदार को शिद्दत से महसूस कर सकता हूं और जिस तरह का रिश्ता वह अपने बेटे के साथ साझा करता है, वह मेरे दिल के बहुत करीब है। लॉयन किंग की विरासत समय से परे है और इस कालजयी कहानी के नए अवतार में अपने बेटे आर्यन के साथ काम करना ही इसे मेरे लिए बहुत खास बना देता है। हम सबसे ज्यादा इस बात से उत्साहित हैं कि अबराम इस फिल्म को देखने वाला है।’

चैत्वाली के बाद एक हिट की तलाश में अमित सागर, ‘सच्ची त्यारा सौं’ में नहीं चला स्वरों का जादू

द लॉयन किंग पहली बार 1994 में रिलीज हुई थी। इस फिल्म की रिलीज के 25 साल पूरे होने पर डिजनी इसी कहानी को अब नई तकनीक के साथ बनी एनीमेशन फिल्म के तौर पर फिर से रिलीज करने का फैसला किया है। फिल्म मुफासा नाम के एक शेर और उसके बेटे सिम्बा की कहानी है। मुफासा अपने बेटे को जिंदगी की कड़वी हकीकत समझाता है। लेकिन, अति आत्मविश्वास के चलते सिम्बा शुरू में अपने पिता की सीख की अनदेखी कर देता है। सच्चाई से सामना होने पर सिम्बा को अक्ल आती है और वह वापस अपने जंगल लौटता है।

देहरादून स्टेशन से बच्चा हुआ चोरी, बच्चे को बेचते समय पुलिस ने पकड़ा आरोपी

Facebook Comments