उत्तराखंड में शैलेश मटियानी पुरस्कार की प्रक्रिया हुई शुरू ,पुरस्कार से नवाजे जाएंगे उत्तराखंड कई शिक्षक

0
2239

उत्तराखंड में शैलेश मटियानी पुरस्कार की प्रक्रिया हुई शुरू ,पुरस्कार से नवाजे जाएंगे उत्तराखंड कई शिक्षक

उत्तराखंड में शैलेश मटियानी पुरस्कार की प्रक्रिया फिर से शुरू की गयी है। इस पुरस्कार के लिए उत्तराखंड से शिक्षकों को चुना जाएगा। शैलेश मटियानी (१४ अक्टूबर १९३१ – २४ अप्रैल २००१) आधुनिक हिन्दी साहित्य-जगत् में नयी कहानी आन्दोलन के दौर के कहानीकार एवं प्रसिद्ध गद्यकार थे। उन्होंने ‘बोरीवली से बोरीबन्दर’ तथा ‘मुठभेड़’, जैसे उपन्यास, चील, अर्धांगिनी जैसी कहानियों के साथ ही अनेक निबंध तथा प्रेरणादायक संस्मरण भी लिखे हैं। उनके हिन्दी साहित्य के प्रति प्रेरणादायक समर्पण व उत्कृष्ट रचनाओं के फलस्वरूप आज भी उत्तराखण्ड सरकार द्वारा उत्तराखण्ड राज्य में पुरस्कार का वितरण होता है।

Uttarakhand Shailesh Matiyani Award

स्मार्ट सिटी देहरादून की रोडें भी हो रही अब स्मार्ट

वर्ष 2017 के पुरस्कार की घोषणा के बाद शिक्षा विभाग 2018 के शैलेश मटियानी राज्य शैक्षिक पुरस्कार की तैयारी में जुट गया है। जिला स्तर पर उत्कृष्ट शैक्षिक प्रदर्शन करने वाले शिक्षकों का चयन करीब-करीब कर लिया गया है। इनका जिलावार सत्यापन किया जा रहा है। शिक्षा निदेशक आरके कुंवर के अनुसार, इस पुरस्कार के लिए अंतिम चयन राज्य स्तरीय समिति की बैठक में किया जाएगा। इस बैठक के जल्द होने की संभावना है। यहां बता दें कि शैलेश मटियानी पुरस्कार में शिक्षा विभाग करीब दो साल पीछे चल रहा है। वर्ष 2017 के पुरस्कार ही इसी महीने 23 अक्तूबर को घोषित किए गए हैं। इस पुरस्कार के लिए चयन में शैक्षिक रिकॉर्ड और शिक्षा की गुणवत्ता बेहतर बनाने के लिए किए गए नए प्रयोगों को प्रमुखता दी जाती है। शिक्षा मंत्री अरविंद पांडे ने पुरस्कार चयन में नियमों का सख्ती से पालन करने के निर्देश दिए हैं। वर्ष 2017 के पुरस्कार में कुछ जिलों को प्रतिनिधित्व नहीं मिल पाया था। शिक्षा मंत्री ने सभी जिलों से शिक्षकों के चयन के लिए कहा है।

Uttarakhand Shailesh Matiyani Award

गढरत्न नरेंद्र सिंह नेगी जी का नया गीत “जख मेरी माया रौंदी” हुआ रिलीज

शैलेश मटियानी राज्य शिक्षक पुरस्कार 2016-17 के लिए प्रदेश से 24 शिक्षकों को चयनित किया गया है।पुरस्कृत होने वाले शिक्षकों को दो साल का सेवाविस्तार दिया जा सकता है। शैलेश मटियानी पुरस्कार के चयन की प्रक्रिया बेहद सख्त है। जिलास्तर पर प्राप्त नामों का राज्य स्तरीय कमेटी परीक्षण करती है। इस प्रकिया की वजह से इस बार चयन में देरी हुई है। उच्च पदस्थ सूत्रों के अनुसार शिक्षा विभाग के स्तर से चयनित नामों का प्रस्ताव शासन स्तर पर पहुंच गया है। जल्द मुहर लगने के बाद इसकी विधिवत घोषणा की जाएगी।