संगीता ढौंडियाल का सुपरहिट गीत – ढोल दमों बाजी गेना पहुंचा 1.1 करोड़ के पार बना डीजे में पहली पसंद

0
769
sangeeta dhondiyal

Dhol damau baji gena

उत्तराखंड की अपनी एक समृद्ध एवं गौरवशाली सांस्कृतिक परंपरा रही है किसी भी सभ्यता एवं संस्कृति में सांस्कृतिक गतिविधियां अहम् भूमिका निभाते हैं।यहाँ के वाद्य यंत्रों की भी अपनी विशेषता है। ढोल और दमाऊ उत्तराखंड के पारम्परिक वाद्य यंत्र हैं जो हर मांगलिक कार्य पर बजाए जाते हैं. शादी विवाह हो या देवी देवताओं के धार्मिक कार्यकर्म ढोल दमाऊ की थाप जरूर सुनने को मिलेगी। कहा जाता है कि ढोल सागर में प्रकृति, देवताओं, मानव जाति, को समर्पित 300 से अधिक ताल हैं. इस लोककला को संजोने में लोकगायिका संगीता ढौंडियाल ने अपने गीत ढोल दमों बजी गेना गाकर अहम् भूमिका निभाई है। जोकि आजकल हर शादी व्याह में डीजे पर लोगों की पहली पसंद बना हुआ है

हिलीवुड न्यूज़ शो में संगीता ढौंडियाल से खास बातचीत

जुबिन नौटियाल की चिट्ठी में पहाड़ के लिए प्रेम नया वीडियो हुवा रिलीज़

Dhol damau baji gena

उत्तराखंड के इतिहास में संगीत ने सदैव अपनी भूमिका निभाई है चाहे राज्य आंदोलन हो या टिहरी विरासत का विलय यहाँ के लोक गायकों ने अपने गीतों के जरिए जनमानस को मनोरंजन करने के साथ ही सन्देश पहुँचाने का भी काम किया है। संगीता ढौंडियाल ने भी अपने गीत के माध्यम से इस अनमोल धरोहर की महत्ता को दर्शकों तक समझाया है और दर्शकों ने भी उनके इस प्रयास की सराहना की है और अब तक ये गीत 80 लाख श्रोताओं के दिल में बस चुका है संगीता ने इस गीत में पहाड़ के कई रीती रिवाजों को शामिल किया है।

उत्तराखंड में रिक्रिएशन का दौर जारी रिलीज़ हुआ कमान सिंह तोपवाल का गढ़वाली डीजे मैशअप

ढोल दमाऊ बजी गेना दगड़्या की बाराती मा कनि रंगत ऐगे गीत से उन्होंने पहाड़ में होने वाले विवाह का वर्णन किया है। विवाह में निभाई जाने वाली रस्मों मेहंदी से लेकर शादी में बनने वाले पहाड़ी व्यंजन अरसा और पकोड़ी का जिक्र भी किया है। गीत का वीडियो संगीता ढौंडियाल के यूट्यूब चैनल पर रिलीज़ हुआ है जिसमे संगीतकार रणजीत सिंह पहाड़ी वाद्ययंत्र मशकबाज बजाते हुए नजर आ रहे हैं जबकि अन्य साथी ढोल दमाऊ, हारमोनियम, हुड़का के साथ अपनी लोककला का प्रचार- प्रसार कर रहे हैं। गोविन्द नेगी ने भी गीत के महत्व को देख कर शानदार कैमरा वर्क किया है। कुछ दशकों पहले पहाड़ के विवाह समारोह में होने वाले मांगल गीतों का भी संगीता ने जिक्र किया है। जो कि आज की पीढ़ी के लिए प्रेरणा का कार्य है।

sangeeta 2

क्योंकि अब इनकी जगह मॉडर्न ज़माने के बैंड- बाजे और डीजे ले चुके हैं, दर्शकों ने गीत पर सकारात्मक टिप्पणियां की हैं और संगीता ढौंडियाल को इस गीत के लिए बधाइयाँ दी हैं।
इस तरह के प्रयास अगर संस्कृति के संरक्षक समय रहते कर लें तो पूर्वजों की धरोहर को संजो पाएंगे और आने वाली पीढ़ी को सौगात स्वरुप दे पाएंगे।

dhol damau ranjeet singh

देवभूमि उत्तराखण्ड अपनी लोक संस्कृति एवं यहाँ की लोक परम्पराओं के लिए जग जाहिर है। उत्तराखण्ड की लोक कला की धरोहर ढोल और दमाऊं ही एक ऐसा माध्यम है जिसकी थाप सुनकर देवता इंसानी देह में अवतरित हो जाते हैं। ढोल सागर के जानकारों को औजी या ढोली कहा जाता है।

उत्तराखंड की धरोहर अब आपके हाथों में लीजिये सुनिए ये बेहतरीन गीत

HILLYWOOD NEWS
RAKESH DHIRWAN

Facebook Comments