Saaho Movie Review : दर्शकों को नहीं भायी साहो मूवी, नहीं दिखा बाहुबली जैसा दम

0
661

Saaho Movie Review

जिस फिल्म में ‘बाहुबली’ का हीरो हो और जिसका बजट 350 करोड़ हो, तो उससे एक धमाकेदार मनोरंजन की अपेक्षा करना गलत तो नहीं है। वही अपेक्षा दर्शक प्रभास की इस भव्य बजट वाली ऐक्शन ड्रामा से लेकर जाता है, मगर वह कहावत है न कि हर दिन दिवाली नहीं होती। वाकई प्रभास की हर फिल्म ‘बाहुबली’ नहीं हो सकती, मगर प्रभास का बॉलिवुड डेब्यू इतनी कन्फ्यूजिंग कहानी और कमजोर स्क्रीनप्ले के साथ होगा, इसकी उम्मीद शायद ही किसी ने की हो।
फिल्म की अडवांस बुकिंग जोरों पर है। इस सप्ताह और कोई फिल्म न होने के कारण और गणेशोत्सव की छुट्टियों के कारण फिल्म घाटे में नहीं रहेगी, मगर प्रभास को चाहनेवाले जरूर निराश हो सकते हैं।

Saaho Movie Review

फिजी के जंगलो में चुनोतियो का सामना करने को तैयार ताशी -नुंग्शी

कहानी बहुत उलझी हुई है। बस इतना समझ लीजिए कि कहानी दुनिया के सबसे ज्यादा शक्तिशाली और सिंडिकेट अपराध माफिया की राइवलरी पर आधारित है, जहां रॉय ग्रुप का चीफ (जैकी श्रॉफ) साजिश के तहत मार दिया जाता है और चंकी पांडे का किरदार खुद को उसकी गद्दी का वारिस घोषित कर देता है। सत्ता की इस लड़ाई में एक तरफ अरुण विजय और मंदिरा बेदी की पार्टी है, तो दूसरी तरफ चंकी पांडे, महेश मांजरेकर, लाल और टीनू आंनद की पार्टी है।

मुंबई में हुई एक बहुत बड़ी और रहस्यमई डकैती के साथ अशोक (प्रभास) की एंट्री होती है। वह अपनी साथी फीमेल कॉप अमृता (श्रद्धा कपूर) और साथी पुलिस वाले डेविड (मुरली शर्मा) के साथ मिलकर डकैती का सुराग हासिल करता है और इस बात का खुलासा करता है कि इस डैकती का मास्टर माइंड नील नितिन मुकेश का किरदार है। सिंडिकेट अपराध माफिया के दोनों राइवल्स को तलाश है एक ब्लैक बॉक्स की, जिसमें बहुत सारे गहरे राज छुपे हैं। इस ब्लैक बॉक्स का सुराग लगाते हुए कहानी विभिन्न शहरों और विदेशों में घूमती है और अंत में एक बहुत बड़ा रहस्योदघाटन होता है।

Ajay devgan : अजय देवगन बने भारत की सबसे महंगी लग्जरी गाड़ी खरीदने वाले तीसरे भारतीय

फिल्म की सबसे कमजोर कड़ी है, इसकी हौचपौच कहानी, जिसको समझने के चक्कर में आपको दिमाग पर बहुत जोर लगाना पड़ता है। हैरतअंगेज ऐक्शन दृश्य फिल्म का प्लस पॉइंट हैं, जो आपकी सांसें तेज करने के लिए काफी हैं। फिल्म को मुंबई, हैदराबाद, दुबई, रोमानिया, ऑस्ट्रेलिया जैसे विभिन्न लोकेशनों पर फिल्माया गया है और इसमें आर माधी की सिनेमटोग्रफी का कमाल भी खूब देखने को मिलता है, मगर लेखक-निर्देशक सुजीत की समस्या यह है कि उनकी कहानी और किरदार ऑडियंस से कनेक्ट बनाने में नाकाम रहते हैं। फिल्म जरूरत से ज्यादा खिंची हुई है और तीन घंटे की फिल्म के आधे घंटे वाले हिस्से में क्लाईमैक्स पॉइंट इतनी बार आता है कि आपको उकताहट होने लगती है कि फिल्म कब खत्म होगी।

एक बार फिर से कृष्णा बनेंगे नीतीश भारद्वाज, ‘महाभारत’ में निभाया था श्री कृष्ण का किरदार

प्रभास परदे पर कमाल का स्क्रीन प्रेजेंस रखते हैं, मगर यहां वे अपनी डायलॉग डिलिवरी में कमतर साबित हुए हैं। ऐक्शन दृश्यों में वे जरूर जंचते हैं, मगर महिमामंडित किए गए हीरोइक किरदार में वे प्रभाव छोड़ने में नाकाम रहे हैं। फिल्म में उनका बाहुबली चार्म नदारद है। श्रद्धा कपूर खूबसूरत जरूर लगी हैं, मगर उनके किरदार को सही रूप में विकसित नहीं किया गया है। प्रभास और श्रद्धा के बीच केमेस्ट्री का अभाव साफ दिखता है। विलेन्स की फौज में जैकी श्रॉफ, मंदिरा बेदी और चंकी पांडे ने अच्छा काम किया है। डेविड के रोल में मुरली शर्मा याद रह जाते हैं, मगर महेश मांजरेकर, टीनू आनंद और एवलिन शर्मा को वेस्ट कर दिया गया है। संगीत के मामले में तनिष्क बागची के संगीत से सजा ‘साइको सैंया’ काफी हिट हो चुका है। यह रेडियो मिर्ची के टॉप 20 में चौथे पायदान पर है। इसी फिल्म का गुरु रंधावा का ‘एनी सोनी’ रेडियो मिर्ची के चार्ट में दसवें नंबर पर है।

Ajay devgan : अजय देवगन बने भारत की सबसे महंगी लग्जरी गाड़ी खरीदने वाले तीसरे भारतीय

कलाकार :प्रभास,श्रद्धा कपूर,नील नितिन मुकेश,मंदिरा बेदी,जैकी श्रॉफ,चंकी पांडे,मुरली शर्मा,टीनू आनंद,महेश मांजरेकर,अरुण विजय,एवलिन शर्मा
निर्देशक :सुजीत
मूवी टाइप:Action,Drama
अवधि:2 घंटा 51 मिनट

Facebook Comments