केदारधाम में ओवररेटिंग,अनियमित संचालन के लिए रुद्रप्रयाग पुलिस ने किए लाइसेंस निरस्त ! पढ़ें क्या है मामला

0
215
over rating in kedarnath

चारधाम यात्रा इस वर्ष अपने शुरुवाती चरण में ही रफ़्तार पकड़ रही है,केदारधाम में अब तक एक लाख से ऊपर बाबा केदार के दर्शन कर चुके हैं। आपदा का दंश झेले केदारनाथ अब पुनर्निर्माण की राह पर अग्रसर है,बर्फीले रास्तों से यात्री इस बार धाम तक पहुँच रहे हैं।

जरूर पढ़ें : केदारनाथ में उस गुफा की बुकिंग ऑनलाइन शुरू जहाँ पी एम मोदी ने की ध्यान साधना.

केदारधाम तक पहुँचने के लिए 14 किमी का पैदल रास्ता तय करना होता है,इतनी पैदल यात्रा करना सबके बस की बात नहीं होती इसीलिए यात्रीयों को धाम तक पहुँचने के लिए घोडा,खच्चर,कंडी का सहारा लेना पड़ता है। इन सभी का किराया प्रसाशन द्वारा तय होता है,जिससे मनमाने दाम न वसूले जाए।

जरूर पढ़ें : 30 मई को उत्तराखण्ड बोर्ड दसवीं और बारहवीं का रिजल्ट एक ही दिन निकलेगा ! नौनिहालों का तय होगा भविष्य !

लेकिन प्रसाशन की अनदेखी कर कंडी संचालक ओवररेट का खेल यात्रियों के साथ खेल ही लेते हैं,साथ ही नाबालिक बच्चों से भी घोड़े खच्चर संचालित किया जा रहे हैं जब ये मामला रुद्रप्रयाग पुलिस के संज्ञान में आया तो इस पर तुरंत कार्यवाही की गई,SP अजय सिंह के निर्देशन में बनी टीम ने अब तक कुल 26 घोडा /खच्चर/कंडी संचालकों के लाइसेंस निरस्त
कर दिए है,साथ ही 1 घोड़ा/खच्चर संचालक पर ओवररेटिंग के कारण मुकदमा पंजीकृत किया जा चुका है।
जरूर पढ़ें : किशना की ‘जय देवी नंदुला’ में सुनिए मां नंदा के जन्म से राजजात तक की कहानी !

इसी क्रम में दिनांक 21/5/19 को कुल 18 संचालको के लाइसेंस निरस्त किये जा चुके हैं जिनमें 7 घोड़ा/खच्चर संचालक स्वयं के लाइसेंस पर किसी अन्य नाबालिक बच्चों से घोड़ा/खच्चर चलवा रहे थे तथा 11 घोड़ा/खच्चर यात्री से बिना वैध पर्ची बनवाये संचालन कर रहे थे इनके लाइसेंस निरस्तीकरण की कार्यवाही की गयी तथा आज 12 घोड़ा/खच्चर संचालक जो कि अपने लाइसेंस पर नाबालिक बच्चों से घोड़े चलवा रहे थे उनपर लाइसेंस निरस्तीकरण की कार्यवाही की गयी।

रुद्रप्रयाग पुलिस ने कड़े निर्देश देते हुए केदारनाथ में काम कर रहे घोड़े खच्चर संचालको को चेताया है और कहा है कि आगे भी लगातार इन अवैध गतिविधियों पर अपनी सतर्क दृष्टि रखी जाएगी।

Hillywood News
Rakesh Dhirwan

Facebook Comments