उत्तराखंड की लोकगायिका हेमा नेगी करासी के जन्मदिन पर पढ़िए स्पेशल रिपोर्ट !

2
291
read-special-report-on-uttarakhand-folk-singer-hema-negis-birthday

आज उत्तराखंड की लोकगायिका हेमा नेगी करासी का जन्मदिन है, उत्तराखंड वासी हेमा नेगी करासी को बधाई सन्देश भेज रहे हैं तो आज के दिन को कुछ ख़ास बनाते हैं और जानते हैं इनके बारे में कुछ खास। 

हेमा नेगी करासी उत्तराखंड संगीत जगत की वो सितारा हैं जो दिनों दिन अपनी चमक और बिखेर रही हैं, । हेमा एक दशक से अधिक समय से भी लोकगीत अेोर गढवाली जागर गा आ रही हैं जितनी प्रभावोत्पादकता उनके जागरों में हैं ,उतने ही आकर्षण उनके लोकगीत भी करते हैं। स्टेज ,सीडी अेोर एलबमों में धार्मिक गाथाओं को गाने को वाली वे उत्तराखण्ड की पहली माहिला हैं ,जिनके जागरों में मेोलिकता के कारण उन्हें बहुत पसंद किया जाता हैं वे दूरदंर्शन आकाशवाणी से अेोर स्टेज प्रोग्रामों में आवाज दे चुकी है।

यह भी पढ़ें: उत्तराखंड: हेमा नेगी करासी ने डमरुधारी भोले गीत से शिवभक्तों को दी सावन में सौगात

कभी कमजोर आर्थिक स्थिति अेोर सामाजिक कारणों से हेमा की प्रतिभा या़त्रा में रोडे आते रहे,लेकिन उन्हे जहां मेोका मिलता, पूरे मनोयोग से गा लेती ,परिणाम स्वरूप उन्हें खूब वाहवाही मिलती। उन्होेंने गढवाल के प्रसिद्ध गायक नरेन्द्र सिंह नेगी के साथ सबसे पहले 2007 में गायन किया तो उनकी पहचान कांडई क्षेत्र से बाहर होने लगी।

यह भी पढ़ें: सीएम रावत के हाथों गिरात्वोली गिर गेंदुआ 2 का विमोचन !

आज जिस मुकाम पर हेमा नेगी करासी पहुँच चुकी हैं वहां तक पहुँचाना हर किसी के लिए एक सपना है, अभी तक हेमा नेगी करासी करीब 60 रचनाओं को स्वर दे चुकी है। इनमें जागर गीत ,भजन आदि शामिल हैं। उनकी रचनाओं के 12 एलबम बाजार में आ चुके है। इसमें गिर गेंदुआ ,माँ मठियाणा माई,मिठु-मिठु बोलि,मैणा बेोजी,कथा कार्तिक स्वामी आदि शामिल हैं।लोकगायन को जारी रखते हुए हेमा ने अब जागर गायन पर फोकस किया है। उनका संकल्प हैं। कि वे अब इस विधा के गायन को प्राथमिकता देगीं।हेमा के संगीत जगत के क्षेत्र में सबसे अधिक योगदान मेरी बामणी गीत का रहा जो काफी सुपरहिट रहा जिसमें उनके साथ गीतकार एवं गायक की भूमिका में नवीन सेमवाल रहे दोनों की जुगलबंदी में ये गीत पूरे उत्तराखण्ड ही नहीं बल्कि दुनिया में भी गूंजा। और उसके बाद मखमली घाघरी ,राजुला, और अपने गीतों का एक नॉनस्टॉप भी अपने यूट्यूब चैनल हेमा नेगी करासी ऑफिसियल पर रिलीज़ कर चुकी हैं जो कि काफी हिट रहे।

read-special-report-on-uttarakhand-folk-singer-hema-negis-birthday

यह भी पढ़ें: हेमा नेगी करासी के इस जागर में दिखी उत्तराखंड की संस्कृति की झलक, आप भी देखें विडियो !

हेमा नेगी करासी का अपनी लोकसंस्कृति से बेहद लगाव है,और लोकसंगीत में इनका योगदान सराहनीय है,हेमा गायन के साथ ही जागरों की रचना भी स्वयं ही करती हैं और अपने क्षेत्र की विधाओं को नए रंग ढंग में ढालकर विश्व पटल पर दर्शाती हैं,लाइव शो के दौरान हेमा करासी उत्तराखंडी वेशभूषा से सज्जित रहती हैं और उत्तराखंड की परंपरा एवं संस्कृति का प्रतिनिधित्व करती हैं।

read-special-report-on-uttarakhand-folk-singer-hema-negis-birthday

 

हाल ही में हेमा नेगी करासी का गिरात्वोली गिर गेंदुवा 2 रिलीज़ हुआ है 2 .12 लाख दर्शक देख चुके हैं।हिलीवुड न्यूज़ मखमली आवाज की धनी हेमा नेगी करासि जन्मदिन की ढेरों शुभकामनाएं देता है और शिखर पर विराजमान रहने की भी बाबा केदार से कामना करता है। 

सुनते हैं हेमा नेगी करासी की आवाज में गिरात्वोली सैण अर्थात् इस पहाड़ी लोक का कुरुक्षेत्र । लोक द्वारा रचित अपनी तरह का महाभारत है ये जिसमें कौरव और पांडवों के बीच एक ठुलखेल चल रहा है जिसमें कौरवों की हार और पांडवों की जीत हो जाती है।

हिलीवुड की ख़बरें यूट्यूब पर देखने के लिए सब्सक्राइब करें। 

Facebook Comments