राम कौशल ने गाया लस्या पालकुराली के विष्णु अवतारी ‘नरसिंह भगवान’ का जागर !! सुनें आप भी

0
782
ram kaushal

देवभूमि उत्तराखण्ड देवताओं की भूमि है और यहाँ के कण-कण में देवी -देवताओं का वास माना जाता है,देश के चार प्रमुख धामों के साथ पांच बद्री ,पांच केदार ,और पांच प्रयागों सहित अनेक तीर्थ स्थल एवं स्थानीय भूमियाल देव हैं जिनकी अलग अलग मान्यताएं हैं।

जरूर पढ़ें : रुद्रप्रयाग के सुरेंद्र सत्यार्थी गीतकार के रूप में बना रहे अपनी पहचान !!लिखे हैं कई सुपरहिट गीत। पढ़ें खास रिपोर्ट !!

रुद्रप्रयाग जिले के लस्या पट्टी पालकुरली गाँव में नरसिंह भगवान् विराजमान हैं जो कि इस गांव के कुलदेव भी हैं,युवा गायक राम कौशल ने नरसिंह भगवान की स्तुति जागर स्वरुप की है,जागर की रचना सोबन राणा ने की है और संगीत संजय राणा ने दिया है।

जरूर पढ़ें : जागर सम्राट प्रीतम भरतवाण ने गाया “रथ हंत्या जागर “प्रसंग! जागर सुनकर दर्शक हुए भावुक !!

उत्तराखण्ड में कुछ सालों पहले पशुबलि की प्रथा थी हालाँकि अभी भी ये प्रथा विराजमान है और अपने इष्ट देव को खुश रखने के लिए बलि कई स्थानों पर दी जा रही है ,लेकिन पुरातन समय की तुलना में अब ये प्रथा जनजागरूकता एवं पशु हत्या के विरुद्ध लोगों में आक्रोश के चलते काफी हद तक कम हो गई है ,ऐसी ही प्रथा थी पालाकुराली गाँव में भी लेकिन अब यहाँ भी बलि प्रथा का अंत हो चुका है और अब नरसिंह भगवान को भी रोट प्रसाद का भोग लगाया जाता है, और छत्र चिमटा चढ़ाया जाता है हर वर्ष माघ महीने की संक्रांति को यहाँ पर जग्गी का आयोजन होता है ,और नरसिंह देव के साथ अन्य स्थानीय भूमियाल देवता भी उनकी डोली के साथ नागराजा ,जगदी माता,नगेला देवता की डोली भी नृत्य करती है। स्थानीय लोगों की मान्यता है काली कुमाऊं से नमक की कंडी में यहाँ आए थे और पालकुराली में मन रम जाने के बाद वही पर मंदिर बनाने को कहा। तब भक्तों ने दुगड्डा के ऊपर नरसिंह देव का मंदिर बनाया। राणा वंश नरसिंह भगवान् के मुख्य पुजारी हैं।

जरूर पढ़ें : माँ एक अनमोल रत्न (उत्तराखण्डी लघु फ़िल्म) रिलीज़ !! पलायन और वृधाश्रम की स्थिति पर केंद्रित है फिल्म जरूर देखें !!

जागर के माध्यम से गायक राम कौशल ने नरसिंह भगवान की स्तुति शानदार की है ,देव-स्थल देवभूमि के देवों की कहानी पूरी दुनिया तक पहुँचाया है,और इस पवित्र भूमि का मान बढ़ाया है। विष्णु अवतारी नारसिंह भगवान अपनी धियाणियों(क्षेत्र की महिलाएं)के धर्म भाई माने जाते हैं,साथ ही भाई का फर्ज निभाते हैं अपनी धियाणा की एक पुकार पर नौ कोस की छलांग लगाते हैं। पालकुराली के नरसिंह भगवान की गाथा दूर-दूर तक फैली है,टिहरी जिले की अंतर्गत भिलंग घाटी और हिंदाव पट्टी में भी नरसिंह भगवान के गुण-गान गाए जाते हैं।

जरूर पढ़ें : हयूंण गांव के डां0 जगदीश सेमवाल राष्ट्रपति अवार्ड से सम्मानित। उत्तराखण्ड के एकमात्र व्यक्ति जिन्हें संस्कृत भाषा के प्रचार -प्रसार के लिए मिला सम्मान !!

आप भी सुनिए पालकुराली के नरसिंह भगवान का जागर:

Hillywood News
Rakesh Dhirwan

Facebook Comments