राकेश और वीरेंद्र पंवार का समधिणी गीत यूट्यूब पर मचा रहा धमाल, रातों रात मिले हजारों व्यूज !

0
244

पहाड़ अपने लोकजीवन एवं परम्पराओं के लिए विशेष महत्व रखता है,लोकसंगीत इनका निर्वाहन करने में अहम् भूमिका निभाता है। उत्तराखंड के कई लोकगायक अपने गीतों के माध्यम से उत्तराखंड की संस्कृति को विश्व पटल पर पहुंचा चुके हैं।  यहाँ की अनूठी संस्कृति से अब दुनिया परिचित है इसे भली भांति समझते हैं, ऐसी ही एक परंपरा को दर्शाता नया वीडियो गीत “रैबार समधिणी” कु रिलीज हुआ है, जिसे दर्शक खूब पसंद कर रहे हैं। 

मैं पहाड़ों कु रैबासी गीत की मची धूम, पार्ट-2 की पूरी हुई तैयारी

दरअसल, गायक राकेश पंवार और वीरेंद्र पंवार की आवाज में अपने नए गीत “रैबार समधिणी” के माधयम से उस रिश्ते का अहसास करा रहे हैं जो समय के साथ अपना मूल खोते जा रहे हैं। नाते रिश्तेदार जीवन में सुःख और दुःख दोनों में अपनी समान भागीदारी निभाते हैं। इन रिश्तों का अहसास होना बेहद जरुरी है लेकिन आधुनिकता के इस दौर में अब इन रिस्तों की मिठास कम हो रही है, जिसे पुनर्जीवित करते हुए गायकों ने एक बार फिर दर्शकों को अपनी परंपरा से अवगत कराया है।

उत्तराखंड में आज भी बिगड़ा रहेगा मौसम, बारिश और बर्फबारी के आसार

वैसे इस रिश्ते की बात ही अलग होती है पहाड़ में प्रेम आदर सम्मान का रिश्ता होता है समधी (जो कि बेटी या बेटे का ससुर) होता है और समधिणी (समधन ) जो कि बेटी या बेटे की सास) होती है। दो घरों के मुखिया जब अपने बच्चों का भविष्य एक दूसरे को सौंपते हैं तो उनकी भी अच्छी मित्रता हो जाती है और रिश्ते की बात चलने से लेकर रिश्ता पक्का होते होते अच्छे सम्बन्ध बन जाते हैं जिसमें हंसी के फुवारे भी होते हैं तो अपनी जवानी के किस्से। वहीं Rajji Films ने इस गीत को बखूबी ढंग से तैयार कर दर्शकों के सामने रखा है, जिसमें उनका साथ Rajji Gosain, Rajesh Naugain, Binita Negi, Anita Sandwal और Sikandar ने अभिनय से और Naresh Pal ने अपने शानदार फिल्मांकन से दिया।

यहां देखें 

हिलीवुड न्यूज़ पर उत्तराखंड फिल्म एवं संगीत जगत की ख़बरें देखिए हमारे यूट्यूब चैनल पर भी।