स्वतंत्रता दिवस पर सुनिए वीर नारी का रैबार !सलाम देश के शहीदों को !

1
659

हिंदुस्तान आज स्वतंत्रता दिवस की 74 वीं वर्षगाँठ मना रहा है आइए जरा याद उन्हें भी याद कर लेते हैं जिनके बलिदान से आज सीमा पर तिरंगा लहरा रहा है,लहराता केसरिया देश के अमर शहीदों की कुर्बानी की कहानी शान से बतला रहा है। 

 https://www.hillywoodnews.in/on-independence-…s-of-the-country/

देश को कई संघर्षों के बाद आजादी मिली है,और इसकी सीमा की रक्षा का दायित्व मिला भारतीय सेना को,जिन्होंने अपने कर्तव्य को ऐसे निभाया जिससे दुशमन का साया भी वतन पर न पड़े।लेकिन फिर भी दुश्मनों की नजर सदा ही सोने की चिड़िया पर लगी रहती है और हर बार सीमा को लांघने का दुःसाहस करते ही रहते हैं।

यह भी पढ़ें: जय जवान कब ऐला स्वामी घर भैंसी ब्याईं च हरिभजन आकांक्षा का आर्मी गीत रिलीज़ !

लेकिन जब भी किसी की कुदृष्टि हिंदुस्तान पर पड़ी है उसका जवाब भारतीय सेना ने उनकी सीमा के अंदर घुसकर ही दिया है,भारतीय सेना के शौर्य की गाथा पूरा विश्व गाता है,और सेना के जवानों के साहस ,पराक्रम और बलिदान की कथा अमर हो जाती है।

लेकिन एक सैनिक का त्याग ही याद नहीं किया जाता है एक वीर सैनिक के पीछे कई उम्मीदें टिकी रहती हैं,देवभूमि तो सैनिक धाम है यहाँ के जांबाजों ने देश के हर उस लड़ाई में अपना परचम लहराया है जब देश को उनकी जरुरत थी और इसी धरती ने वीर चंद्र सिंह गढ़वाली,जसवंत सिंह रावत जैसे पराक्रमी वीर दिए हैं जिनके साहस की कहानी आज भी अमर है।

यह भी पढ़ें: उत्तराखंड की अभिनेत्रियों ने शहीदों की पत्नियों को समर्पित किया गीत। पढ़ें रिपोर्ट

एक सैनिक जब ड्यूटी पर निकलता है तो सबके आँखें नम करके जाता है लेकिन उन आंसुओं के पीछे परिवार गर्व करता है कि उनका लाल देश सेवा के लिए जा रहा है,जननी और जन्मभूमि से बढ़कर कुछ नहीं होता ये एक सैनिक से बेहतर और किसे पता होगा।

यह भी पढ़ें: दगड़ा लिजैदया वीडियो गीत के माध्यम से पुलवामा शहीदों को सच्ची श्रद्धांजलि !! नारी के संघर्षों की कहानी बयां करता वीडियो देखें !!

जो एक माँ से दूर तो रहता है लेकिन दूसरी माँ के आँचल पर दाग न लगे उसके लिए अपने प्राणों की आहुति तक दे देता है,और जिस मुस्कराहट से ड्यूटी पर निकला था उसी मुस्कान से तिरंगे में लिपट कर आता है। और अपनी थाती माटी का मान बढ़ाता है,लेकिन पूरा परिवार अपने वीर सैनिक को कैसे भूल सकता है जो लौटने का वादा करके गया हो और लौटे भी तो तिरंगे को ओढ़कर लौटे तो क्या दर्द होगा उस पिता के दिल में जिसके कन्धों का बोझ अभी-अभी हल्का हुआ हो,क्या बीतेगी उस माँ के दिल में जिसका कलेजा का टुकड़ा ही न रहा हो,क्या गुजरती होगी उस बहन के दिल में जो राखी पर कलाई ढूंढती रह जाएगी और उस नारी पर क्या बीतती होगी जिसने अपना सुहाग खोया है,जिसने न जाने कितने रंगों के सपने देखे थे लेकिन उसकी आँखों के सामने बस तिरंगा हो और उसमें लिपटा उसका सुहाग।

यह भी पढ़ें: कल्पा का टीजर लांच !कमली का अंदाज लाजवाब!

इस पीड़ा का बखान करना उतना ही मुश्किल है जितना इसे सहना,लेकिन धन्य हैं वो हर माता पिता हर वो बहन हर वो नारी जो एक सैनिक को देश रक्षा के लिए भेजते हैं।ऐसा ही एक गीत मेरु रैबार इस पूरे वृतांत का सटीक वर्णन करता नजर आ रहा है ,जिसे वीना रावत बौरा एवं विकास भारद्वाज(वी.केस) ने गाया है और इसे संगीत संजय कुमोला ने दिया है,और वीडियो में नजर आ रहे हैं अजय सोलंकी और सीमा भारती।

 सभी देशवासियों को स्वतंत्रता दिवस की ढेर सारी शुभकामनाएं और श्रद्धा सुमन अर्पित देश के सैनिकों को जिन्होंने इस देश की रक्षा हेतु अपना जीवन न्यौछावर कर दिया लेकिन तिरंगे की शान कभी कम न होने दी। 

जय हिन्द जय भारत !

Facebook Comments