उत्तराखंड में मतदाताओं की संख्या घटी,जानिए क्या है वजह

0
229

उत्तराखंड में मतदाताओं की संख्या घटी,जानिए क्या है वजह

उत्तराखंड में लोकसभा चुनावों के मुकाबले कुल मतदाताओं की संख्या 1,06,983 कम हो गई है। सत्यापन अभियान में बड़े पैमाने पर वास्तविक पते पर नहीं मिलने वाले मतदाताओं के नाम हटने के कारण ऐसा हुआ है।

Uttarakhand voters decreased

यह भी पढ़ें :- सन्तु छोरी ने लुभाया दर्शको का दिल ,आप भी देखें वीडियो

उत्तराखंड की मुख्य निर्वाचन अधिकारी सौजन्या ने मंगलवार को एक जनवरी 2020 के आधार पर तैयार मतदाता सूची का ब्योरा जारी किया। आम चुनाव के दौरान मतदान के दिन तक राज्य में कुल मतदाताओं की संख्या 77,65,423 थी, जो घट कर 76,58,440 रह गई। मुख्य निर्वाचन अधिकारी ने बताया कि मतदाता सूची बीएलओ को उपलब्ध करा दी गई है। इस पर 15 जनवरी तक बीएलओ के जरिये दावे-आपत्तियां प्राप्त की जाएंगी। इस दौरान बीएलओ नए आवेदन लेने के साथ मौजूदा नाम हटाने या सुधार के लिए भी आवेदन स्वीकार करेंगे। इस आधार पर अंतिम मतदाता सूची का प्रकाशन सात फरवरी को हो सकेगा।

यह भी देखें :- यह उत्तराखंडी सितारा कई बॉलीवुड फिल्मों में कर चुका है काम देखें फुल इंटरव्यू

Uttarakhand voters decreased

मैदान में ज्यादा घटे मतदाता
इस बार पहाड़ की बजाय मैदानी जिलों में ज्यादा मतदाता घटे हैं। पहाड़ पर पलायन को इसका कारण बताया जा रहा है, दूसरी ओर मैदानी जिलों में किरायेदारी पर रहने वाले मतदाताओं की शिफ्टिंग को अहम वजह माना जा रहा है। देहरादून में 71,595, ऊधमसिंहनगर में 9,686, नैनीताल में 8,823 और हरिद्वार में 6,007 मतदाताओं के नाम हटाए गए हैं।

यह भी देखें :-

चौदह लाख से अधिक वोटर कार्ड बदले जाएंगे
निर्वाचन आयोग ने राज्य के 14,07,220 मतदाताओं को नए वोटर कार्ड देने का भी निर्णय लिया है। मुख्य निर्वाचन अधिकारी सौजन्या के अनुसार, इन मतदाताओं के पास नॉन स्टैंडर्ड मतदाता पहचान पत्र थे, जिन्हें नए स्टैंडर्ड नंबर वाले कार्ड उपलब्ध कराए जाएंगे। निर्वाचन आयोग भविष्य में सभी बूथों को जीआईएस आधारित करने जा रहा है। इससे मतदाता अपने मोबाइल पर मतदान केंद्र और बीएलओ की सही स्थिति भी जान पाएंगे।

Uttarakhand voters decreased

यह भी पढ़ें :- मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत के मीडिया सलाहकार रमेश भट्ट के सुरो से सजे गीत का ट्रेलर रिलीज़,पढ़ें रिपोर्ट

गिनाए कारण
सत्यापन अभियान के दौरान मतदाता का पता बदलने, विवाह या मृत्यु होने के कारण, ऐसे मतदाताओं के नाम वोटर लिस्ट से हटाए गए हैं। कुछ जगह सॉफ्टवेयर के जरिये डुप्लीकेट नामों को भी हटाया गया। मैदान में चूंकि जनसंख्या ज्यादा है, इसी अनुपात में यहां ज्यादा नाम हटे। ताजा सूची बीएलओ को उपलब्ध करा दी गई है। दावे-आपत्तियों के निपटारे के साथ नए आवेदकों को वोटर कार्ड भी उपलब्ध करा दिए जाएंगे। -सौजन्या, मुख्य निर्वाचन अधिकारी

यह भी देखें :-

Facebook Comments