अब उत्तराखडं का नाम भी नशे की चपेट में शामिल

0
293

drug addiction

अब उत्तराखडं का नाम भी नशे की चपेट में धीरे धीरे शामिल हो रहा है।

उत्तराखण्ड में एक कहावत है सूर्य अस्त पहाड़ी मस्त। लेकिन इस कहावत का असर नशे के रूप में होगा क्या आपने कभी सोचा था. अगर नशे को लेकर बात की जाए की कौन सा राज्य ऐसा होगा जहाँ सबसे ज़्या नशा किया जाता है तो आपके दिमाग में सबसे पहला ख्याल पंजाब राज्य का आएगा। लेकिन ऐसा नहीं है। एक रिपोर्ट के मुताबिक उत्तराखडं राज्य में औसत से ज़्यादा होता है नशा और हर हर तरह का नशा हो रहा है हमारे देवभूमि कहे जाने वाले इस उत्तराखडं में। पहले तो सिर्फ शराब एक बड़ी समस्या थी हमारे उत्तराखडं किकी लेकिन अब भांग, चरस, कोकेन, अफीम हर तरह के नशे की चपेट में है उत्तराखडं।

Bigg Boss 13 : फिर दो हफ्ते के लिए एक्सटेंड हो सकता है बिग बॉस 13

एक रिपोर्ट के मुताबिक उत्तराखडं में 18 प्रतिशत लोग शराब का सेवन करते है भांग 3 प्रतिशत , कोकीन -2 प्रतिशत का सेवन किया जाता है। एक तरफ हमारे उत्तराखडं में पलायन की समस्या है वही दूसरी तरफ नशा। सरकार नशे को लेकर भी तरह तरह के अभियान चला रही है। जगह जगह नशा मुक्ति केन्द्र खोले जा मरीज़ो का मुफ्त में इलाज़ किया जा है। लेकिन क्या कभीं उत्तराखडं इस नशे की चपेट से कभी बाहर होगा। हमारे पडोसी राज्य हिमाचल भी एक पहाड़ी राज्य है लेकिन वहां उत्तराखडं राज्य की तुलना में कम नशा किया जाता है।

drug addiction

आलिया भट्ट की फिल्म ‘गंगूबाई काठियावाड़ी’ का फर्स्ट लुक हो रहा है सोशल मीडिया में वायरल

Facebook Comments