पांगरी का मेला म्यूजिक विडियो हुआ रिलीज, बेटे ‘मोहित सेमवाल’ ने निभाई बाल कलाकार की भूमिका

0
776

Pangri Ka Mela Video Song

हार्दिक फिल्मस के बैनर तले बना ‘‘पांगरी का मेला’’ वीडियो गीत कल शुक्रवार को रिलीज हो गया है। यह गीत पांगरी के मेले पर आधारित है आपको बता दें कि पांगरी का मेला रूद्रप्रयाग जिले के खड़िया गांव में 6-7 गते बैशाक यानि 19-20 अप्रैल को इस मेले का आयोजन किया जाता है यह स्थल गुप्तकाशी से आगे फाटा से मात्र 500 मीटर की दूरी पर स्थित है।

यह भी पढ़े : इंग्लैंड ने न्यूजीलैंड को 119 रन से हराकर सेमीफाइनल में की एंट्री

Pangri Ka Mela Video Song

इस चित्रगीत में दर्शाया गया है कि गीतकार व अभिनेता नवीन सेमवाल का बेटा (मोहित सेमवाल) जो कि पांगरी के मेले में जाने की जिद्द कर रहा है लेकिन पिता (नवीन सेमवाल) मेले में जाने के लिए बालक को टाल देते हैं लेकिन बालहट तो आप जानते ही हैं कैसे होती है आखिरकार वो मान जाते हैं और दूसरे दिन बेटे को मेले में घुमाने के लिए लेकर जाते हैं।

यह भी पढ़े : आमिर खान की बेटी की ये वीडियो हो रही है वायरल, ब्वॉयफ्रेंड के साथ एंजॉय करती नजर आयीं इरा खान

खड़िया गांव में माॅं महिषमर्दिनी का मंदिर है जब माॅं दुर्गा ने महिषासुर दानव का वध किया था तब महिषमर्दिनी कहलाई थी। पांगरी के मेले के बारे में श्री सच्चिदानन्द सेमवाल ने एक बहुत ही अच्छा लेख भी लिखा है जिसमें उन्होंने लिखा है कि ‘‘ऐसा माना जाता है कि महिषासुर वध के बाद जब माता लौटी थी, तो उसने इस जगह पर विश्राम किया था। यहीं पर आज महिषमर्दिनी माता का मंदिर है। नौ दिन तक चले इस युद्ध में दसवें दिन माता दुर्गा विजयी हुई थीय इसलिए तभी से नौ दिनों के नवरात्रे और दसवें दिन विजयादशमी मनाई जाती है। जिस स्थान पर माता ने विश्राम के लिए स्थान लिया था, वहां पर माता का मंदिर है और वहीँ कुछ दूरी पर पांगरी जो स्थान है, जहाँ पर एक मेले का अब आयोजन होता है। माता महिषमर्दिनी सम्पूर्ण केदार घाटी की कुलदेवी है। धार गांव के सेमवाल माँ महिषमर्दिनी के मुख्य पुजारी हैं। वर्तमान में इस गाने के लोकगायक नवीन सेमवाल उस मंदिर के मठपति भी हैं। माता दुर्गा का रूप होने के कारण केदारनाथ भगवान् की यात्रा का भी इस मंदिर से खास नाता है। कहा जाता है कि सड़क निर्माण से पहले केदारनाथ जाने का मुख्य रास्ता यही था, किन्तु अब सड़क मार्ग बनने के बाद भी बाबा केदार की डोली केदारनाथ आते और वापस ओंकारेश्वर मंदिर जाते हुए माता महिषमर्दिनी के मंदिर में जरूर विश्राम करती है। स्थानीय मान्यताओं के अनुसार बाबा केदारनाथ की डोली को मंदिर में प्रवेश करने नहीं दिया जाता है। उनको अंदर आने से रोकने के लिए बिच्छू घास (कंडाली) को देहरी पर रखा जाता है।माता महिषमर्दिनी अपने पश्वा पर साल भर में 2 ही बार अवतरित होती है- एक तो विजयदशमी के दिन और दूसरे पांगरी मेले के दिन। अवसर प्राप्त हो, तो जरूर माता महिषमर्दिनी के दर्शन करने जरूर जाएं और पांगरी के मेले में भी घूम आएं!’’

यह भी पढ़े : शाहिद कपूर की फिल्म ‘कबीर सिंह’ सिनेमाघरों में हुई रिलीज़

Pangri Ka Mela Video Song

इस वीडियो गीत में सिनेमेटोग्राफी बबलू जंगली ने की है तथा इस गीत को बहुत ही खूबसूरती से शूट किया गया है जिसमें पहाड़ी घर, घर के काम काज, पंदेरा, खेत खलियान, मंदिर व मेले का दृश्य अच्छे तरीके से दर्शाया गया है। इस गीत का निर्देशन अंकुश सकलानी ने किया है। पिता पुत्र की यह जोड़ी बहुत ही अच्छी लग रही है दोनों का अभिनय सराहनीय है। मोहित सेमवाल (बाल कलाकार) ने इस गीत में पहली बार अभिनय किया है जिसमें उन्होंने अपने क्यूटनेस व नादानियों से सभी का दिल जीत लिया है। एक प्रकार से देखा जाय तो नवीन सेमवाल ने इस गीत से अपने बेटे मोहित सेमवाल का डेब्यू किया है। अब देखना यह होगा कि दर्शक इस गीत को कितना पंसद करते हैं।

यह भी पढ़े : 25 साल बाद सनी देओल ने किया अपने साथ हुए धोखे का खुलासा, 16 साल तक बंद रही शाहरुख़ से बातचीत

वीडियो यहां देखें:

Facebook Comments