बालाजी महाराज के समर्थन में रिलीज हुआ नया गीत, दर्शकों से मिल रही है जमकर प्रतिक्रियाएं

0
54

पंडित शिवभट्ट का नया भजन रिलीज हो गया है l उनके इस भजन को खूब पसंद किया जा रहा है क्यों कि उनका यह भजन विवादों में चल रहें बालाजी के समर्थन में गाय गया है l 

यह भी पढ़े : अनिता और इन्दर आर्य की जुगलंबदी ने जीता दर्शकों का दिल, वायरल हुआ नया गीत

जी हां आपको बता दें पंडित शिवा भट्ट के ऑफिसियल यूट्यूब चैनल के माध्यम से नया गीत ‘Bageshwar Dhaam’ रिलीज हो गया है जिसे Shiva Bhatt की आवाज में गाया गया है l बेहद ही शानदार भजन के लिरिक्स Jay Kuriyal के द्वारा लिखें गए है l जो कि बेहद ही खूबसूरत है l

यह भी पढ़े : इस बार कर्तव्यपथ पे दिखेगा उत्तराखँड का छोलिया नृत्य, पढ़ें रिपोर्ट

बता दें यह पूरा गीत अपने शानदार लिरिक्स के चलते जमकर वायरल हो रहा है l बता दें इस भजनं में मध्य प्रदेश के बागेश्वर धाम सरकार के पंडित धीरेंद्र शास्त्री के खुल कर समर्थन करने की बात हो रही है जिसमें गायक साफ़ तौर पर यह कहते है कि यह भगवान के अवतार है, यह भी मा अंजनि के लाल है और हमेशा हिंदुत्व की बात करते है l तो इनका समर्थन करो l इन शानदार लिरिक्सो के बदौलत यह गीत दर्शकों के बीच जमकर वायरल हो रहा है और और दर्शकों से खूब प्रतिक्रियाएं बटोरे जा रहा है l

यह भी पढ़े : सूरज निर्वाण का नया गीत रिलीज, लिरिक्स का चला जादू

आखिर क्यों समर्थन की बात करी जा रही है – 

बागेश्वर धाम सरकार पं. धीरेंद्र शास्त्री की कथा के दौरान लोगों की समस्याएं सुनने और उसका समाधान करने का दावा किया जाता है। कहा जाता है कि भूत, प्रेत से लेकर बीमारी तक का इलाज बाबा की कथा में होता है। बाबा के समर्थक दावा करते हैं कि बागेश्वर धाम सरकार इंसान को देखते ही उसकी हर तरह की परेशानी जान लेते हैं और उसका समाधान करते हैं। वहीं, बागेश्वर धाम सरकार का कहना है कि वह लोगों की अर्जियां भगवान (बालाजी हनुमान) तक पहुंचाने का जरिया मात्र हैं। जिन्हें भगवान सुनकर समाधान देते हैं। इन्हीं दावों को नगापुर की अंध श्रद्धा निर्मूलन समिति ने चुनौती दी। यहीं से विवाद की शुरुआत हुई।

यह भी पढ़े : आज भी हर पार्टी की रौनक बढ़ाता ये गीत, जिसने रजनीकांत को दी थी अलग पहचान

कौन है धीरेंद्र शास्त्री – 
अभी बागेश्वर धाम की बागडोर पंडित धीरेंद्र कृष्ण शास्त्री के पास है। पं. धीरेंद्र का जन्म 1996 में छतरपुर (मध्य प्रदेश) जिले के गड़ागंज गांव में हुआ था। इनका पूरा परिवार अभी भी गड़ागंज में ही रहता है। पं. धीरेंद्र शास्त्री के दादा पं. भगवान दास गर्ग भी इस मंदिर के पुजारी रहे। कहा जाता है कि पं. धीरेंद्र का बचपन काफी कठिनाई में बीता। जब वह छोटे थे तो परिवार की आर्थिक स्थिति इतनी खराब थी कि एक वक्त का ही भोजन मिल पाता था। पं. धीरेंद्र शास्त्री के पिता का नाम रामकृपाल गर्ग और मां सरोज गर्ग है। धीरेंद्र के छोटे भाई शालिग्राम गर्ग जी महाराज हैं। वह भी बालाजी बागेश्वर धाम को समर्पित हैं। मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार, पं. धीरेंद्र शास्त्री ने 11 साल की उम्र से ही बालाजी बागेश्वर धाम में पूजा पाठ शुरू कर दी थी। पं. धीरेंद्र शास्त्री के दादा ने चित्रकूट के निर्मोही अखाड़े से दीक्षा ली थी। इसके बाद वह गड़ागंज पहुंचे थे।

हिलीवुड न्यूज़ की ताजातरीन जानकारियों के लिए जुड़े रहिए साथ ही वीडियो रिव्यु एवं अन्य जानकारी यूट्यूब पर भी देखिए