पहाड़ी संस्कृति को दर्शाता नया गीत ‘कोयल बसीगे’,रिलीज, जबरदस्त शब्दों से कंठ का तड़का

0

उत्तराखड का संगीत भले ही समय के साथ बदल रहा हो और लगातार गीतों में बॉलीवुड की झलक देखने को मिलती है लेकिन आज भी उत्तराखंडी संगीत अपनी संस्कृति को अपने पारम्परिक गीतों के माध्यम से बचाता और निरंतर आगे बढ़ाता है, जिसका जीता जागत उदाहरण देर शाम रिलीज हुए गीत ‘कोयल बसीगे ‘ में भरपूर सुनने को मिला है l 

यह भी पढ़े : सुबेरो घाम 2 रिलीज़ को तैयार,उत्तराखंड के सबसे गंभीर मुद्दे पर बनी है फिल्म।

कोयल हर बरस आती है रोज़ सुरीला गीत सुनाकर पहाड़ों में मिश्री घोल जाती है जब कोयल गीत गाती है तो लोग वाह-वाह करते हैं लेकिन रचनाकार जब लिखता है उसका दर्द देखने को मिलता है l रचनाकार डीके आर्य के लिखें इस नए गीत ‘कोयल बसीगे ‘  में भी वही दर्द देखने को मिला है जिसकों युवा गायक रोहित भंडारी के साथ गायिका Ganga Chauhan ने अपनी आवाज के माध्यम से बखूबी प्रस्तुत्त किया है जिसमें कंठ से शब्दों से ज्यादा हकीकत का अनुभव देखने को मिला l रचनाकार की संस्कृति से जुड़े इस गीत में रोहित की आवाज के एक अलग स्तर के संगीत का दबदबा भी देखने को मिला जिसने गीत को करुणा से भरा बना दिया l

यह भी पढ़े : 20 अप्रैल को लगने जा रहा है साल का पहला ग्रहण, इस राशि के लिए रहेगा घातक

वीडियो में उत्तराखंड के प्राकृतिक सौंदर्य को दिखाया गया है जिसमें एक नवविवाहिता अपने दुखों को गा कर प्रकट करती है,पहाड़ों में अधिकांश पुरुष वर्ग रोजगार की तलाश में घर से दूर परदेश में रहते थे ,उस समय संचार का इतना साधन न होने का कारण शायद यही एक कारण रहा हो कि कोयल, कफू आकर संदेश दे और अपने मन के भावों को उजागर करने का एकमात्र यही साधन रहा होगा जिससे मन थोड़ा हल्का हो,कहा जाता है कि जैसे पहाड़ी कोयल अपने प्रियतम की याद में गीत गाती है ठीक उसी प्रकार से महिलाऐं भी अपने प्रियतम की याद में गीत गाती है डीके आर्य के रचे इस गीत में वही टच देखने को मिला है जिसको स्क्रीन पर सिंगर म्यूजिशियन रहे रोहित के साथ प्रकृति की भांति खूबसूरत अभिनेत्री साक्षी काला ने निभाया जो कि दर्शकों को खूब पसंद आया है, जिसे रोहित भंडारी ने अपने ऑफिसियल यूट्यूब चैनल के बैनर तले दर्शकों के बीच साझा किया है जिसमें Aman Pokhriyal के शानदार फिल्मांकन के साथ विजय भारती की डायरेक्शन एक तरफ़ा देखने को मिली है l

यह भी पढ़े : इस शादी सीजन डोला बंटी और दीक्षा का मन, नए गीत में दिखी झलक 

कहा जाता है कि गीत और नृत्य को जीवन का संचार है और सही मायने में लोक में रचे-बसे गीत और नृत्य ही उस समाज की संस्कृति को विशिष्टता प्रदान करते हैं कुमाउनी संगीत जगत निरंतर उत्तराखंड की शानदार प्राकृतिक सुंदरता को प्रदर्शित कर रहा है, और राष्ट्रीय से लेकर अंतरराष्ट्रीय स्तर पर उत्तराखंड की विरासत को सजोए रख रहा है l 

यहां सुने गीत =

हिलीवुड जगत स जुड़ी अन्य खबरों के लिए बने रहे हमारे यूट्यूब चैनल के साथ

 

Exit mobile version