Natural Herbs genthi – कई घातक बिमारियों को काटती है प्राकृतिक जड़ी बूटियां

0
392

Natural Herbs उत्तराखंड प्राकृतिक संपदा और जैव विविधता के साथ ही यहां मिलने वाली जड़ी-बूटियों के लिए भी प्रसिद्ध है। देवभूमि में मिलने वाली जड़ी-बूटियों में जीवनदायिनी शक्ति है। पहाड़ के ग्रामीण इलाकों में आज भी इन जड़ी-बूटियों का इस्तेमाल कई बीमारियों के इलाज में किया जाता है। इन्हीं जड़ी-बूटियों में से एक है पहाड़ में मिलने वाला जंगली फल Genthi गीठीं। इसके औषधीय गुणों के बारे में जानकर आप भी हैरान रह जाएंगे। ऐसी कोई बीमारी नहीं, जिसे ठीक करने की ताकत गीठीं में ना हो। ये पहाड़ में मिलने वाला कंदमूल फल है, जो कि आमतौर पर जंगलों में मिलता है। औषधीय गुणों के चलते गीठीं की डिमांड बढ़ रही है, यही वजह है कि पहाड़ के कुछ लोग घरों में गीठीं की खेती कर रहे हैं।

 

यह भी पढ़ें – उत्तराखंड पर्यटन : दक्षिण भारत के सुपरस्टार अभिनेता रजनीकांत हुए बद्री-केदार की यात्रा के लिए रवाना

 

पहाड़ों में लताऊ, झिंगुर, करी, बाकवा, बोंबा, मकड़ा, शाहरी, बड़ाकू, दूधकू, कुकरेंडा, सियांकू, धधकी, रांय-छांय, कोकड़ो, कंदा, बरना कंदा, दुरु कंदा, बरनाई, खानिया और मीठारू कंदा जैसी कई जड़ी-बूटियां और कंदमूल फल मिलते हैं, जिनका इस्तेमाल इलाज के लिए आज भी होता है। आगे जानिए गींठी के बेमिसाल गुण गीठी के इस्तेमाल से कैंसर जैसी घातक बीमारियों को दूर किया जा सकता है।

 

यह भी पढ़ें : Dehradun Literature Festival 2019 : दून लिटरेचर फेस्टिवल में कई नामी हस्तियों ने दिए नई पीढ़ी को पैगाम, पढ़ें रिपोर्ट

 

कैंसर, कब्ज, अल्सर, बवासीर का अचूक इलाज है गेंठी (गींठी) की सब्जीदेवभूमि का अमृत: कैंसर, कब्ज, अल्सर, बवासीर का अचूक इलाज है गेंठी (गींठी) की सब्जी कुदरती सब्जी, अल्सर, गेंठी (गींठी), दक्षिण पूर्व एशिया, औषधीय उपयोग, च्यवनप्राश, विटामिन बी-12, वलवीफेरा, बवासीर, कुदरत ने उत्तराखंड को कुछ ऐसे अनमोल तोहफे दिए हैं, जिनमें अद्भुत गुणों की भरमार है। इस बीच हैरानी की बात तो ये भी है कि आधुनिकता की इस दौड़ में हम लगातार इन अनमोल संपदाओं को भूलते जा रहे हैं। आज हम आपको पहाड़ में उगने वाली ऐसी ही एक कुदरती सब्जी के बारे में बताने जा रहे हैं। जो आपके शरीर में मौजूद पेट की बीमारी को पल भर में दूर सकती है। पेट की बीमारी …यानी कब्ज, बवासीर, दस्त और अल्सर। ये ऐसी बीमारियां हैं जो इंसान को काफी तकलीफ देती हैं। इस सब्जी का नामं है गेंठी (गींठी) की सब्जी। इस कंद की सब्जी भी कहा जाता है। अपने आप में ये कई कुदरती खूबियों को समेटे हुए है। बताया जाता है कि इस सब्जी को दक्षिण पूर्व एशिया और अफ्रीका में भी उगाया जाता है। खास बात ये भी है कि चरक संहिता और सुश्रुवा संहिता में गेंठी (गींठी) का स्थान दिव्य अट्ठारह पौधों में दिया गया है।

यह भी पढ़ें – गाजियाबद -पिथौरागढ़ में बहुत जल्द हवाई सेवाएं शुरू

Facebook Comments