मसूरी विंटर लाईन कार्निवाल में मची लोक संस्कृति की धूम, आप भी देखें

0
531

Lok Sanskriti

मसूरी विंटर लाईन कार्निवाल में मची लोक संस्कृति की धूम, आप भी देखें

मसूरी में 25 से 30 दिसंबर तक होने वाले मसूरी विंटर लाईन कार्निवाल का आगाज हो गया। बुधवार को लंढौर स्थित सर्वे मैदान में परेड को जिलाधिकारी सी रवि शंकर,क्षेत्रीय विधायक गणेश जोशी व पालिकाध्यक्ष अनुज गुप्ता ने संयुक्त रूप से रिबन काटकर व हरी झंडी लहराकर रवाना किया।

रोमांटिक केमिस्ट्री से भरपूर ‘गुड न्यूज़’ का नया गाना ‘दिल ना जानेया’ रिलीज, आप भी देखें

परेड में उत्तराखंड विशेष पुलिस बल के बैंड के साथ ही जौनपुर कला मंच, मसूरी गल्र्स इंटर कालेज, लोक कला मंच, स्पर्श, सनातन धर्म गर्ल्स इंटर कालेज, जूनियर हाई स्कूल कुलड़ी, पंजाब, हिमाचल, कुमाउं, राजस्थान, शिशु मंदिर, एसएएफई मसूरी, आकाशवाणी क्लब, हंसा नृत्य नाटक देहरादून, गढवाल महासभा, जम्मू कश्मीर, दशमेश गतका पार्टी सहित बीएसएफ व पीएसी की टीमों ने भी प्रतिभाग किया व अपनी कला से दर्शकों का मन मोह लिया। शोभायात्रा में लगभग 30 झांकिया शामिल रही।

बामणी के नवीन सेमवाल लेकर आये लोक स्टूडियो, देखें क्या है ख़ास

कार्निवाल परेड सर्वे मैदान से शुरू होकर लंढोर बाजार, कुलडी, मालरोड़ होते हुए गांधी चौक तक गई जिसमें रास्ते भर बड़ी संख्या में पर्यटकों ने कार्निवाल परेड में उतराखंड सहित विभिन्न राज्यों के लोक रंगों को देखा व जमकर उनके साथ नृत्य कर यहां की संस्कृति के मुरीद हो गये। कार्निवाल परेड में बीएसएफ का साइकिल दस्ता विशेष आकर्षण का केंद्र रहा।

Lok Sanskriti

वरिष्ठ कलाकारों ने मसूरी विंटर कार्निवाल का किया बहिष्कार, जानें क्या है वजह

वहीं शोभायात्रा में बाहर से आये पर्यटकों ने भी बढचढ कर हिस्सा लिया व जमकर थिरके। इसका मुख्य उददेश्य शीतकाल में प्र्यटन को बढावा देने के साथ रोजगार देना है साथ ही इसका उददेश्य उत्तराखंड की लोक संस्कृति को देश विदेश में पहचान दिलाना है कार्निवाल का अर्थ यही है कि यहां की अपनी संस्कृति को प्रोत्साहन देना। वहीं कार्निवाल परेड के माध्यम से सामाजिक बुराईयों के प्रति जागरूक करने का प्रयास भी किया जा रहा है।

Facebook Comments