INDIA को खत्म करने की तैयारी में मोदी सरकार, सदमे में सभी देशवासी

0

मोदी सरकार ने 18 से 22 सितंबर तक संसद का विशेष सत्र बुलाया है, जिसमें मीएम मोदी के नेतृत्व में इंडिया का नाम बदलने के कयास लगाए जा रहे हैं, जिसे लेकर मांग भी तेज हो गई है.

यह भी पढ़ें: एशिया कप की आज से हो रही है शुरूआत, जानें पूरा शेड्यूल

INDIA या भारत नाम पर सियासी बवाल शुरू हो गया है, कहा जा रहा है कि G20के ठीक बाद मोदी सरकार ने संसद का जो विशेष सत्र बुलाया है, उसमें इसी पर काम होगा, नाम बदल दिया जाएगा और फिर देश का नाम सार्वजनिक और सार्वभौमिक रूप से सिर्फ ‘भारत’ रहेगा, हालांकि विशेष सत्र बुलाने को लेकर लगातार कयासों का बाजार गर्म है, सभी के मन में प्रश्न है कि आखिर सरकार विशेष सत्र में क्या करने वाली है, इस सत्र को बुलाने के संबध में फिलहाल सरकार की तरफ से कोई विशेष कारण नहीं बताया गया है.

यह भी पढ़ें: अब साल में दो बार पास करनी होगी बोर्ड परीक्षा, पढ़ें पूरी जानकारी

बता दें अगर ऐसा होता है तो यह अभी-अभी नए बने I.N.D.I.A. गठबंधन के लिए बड़ा झटका साबित होगा, जिसने खुद से खुद को देशहित का पर्याय मानते हुए अपने गठबंधन का नाम देश की इस इंग्लिश वर्तनी पर रख लिया था, ताकि उसे जब I.N.D.I.A. पुकारा जाए तो यह देश की आवाज लगे,अगर संसद की विशेष बैठक के दौरान मोदी सरकार देश का नाम इंडिया से बदलकर भारत करने का बिल लाती है, तो इससे सियासी घमासान और तेज होने के आसार हैं, ऐसे में सबकी नजर 18 से 22 सितंबर तक उन 5 दिनों पर है, जब संसद का ये विशेष सत्र होगा, खास बात ये भी है कि इस सत्र में कोई प्रश्नकाल नहीं होगा, सदस्य भी मसले नहीं उठा सकेंगे.

यह भी पढ़ें: चंद्रयान-3 ने भेजी चांद की नई तस्वीरें, अब थोड़ी देर बाद चांद पर होगा भारत

इस पर कांग्रेस पार्टी के वरिष्ठ नेता जयराम रमेश ने गंभीर आरोप लगाए हैं कि G20 सम्मेलन के एक कार्यक्रम में ‘प्रेसिडेंट ऑफ इंडिया’ को ‘प्रेसिडेंट ऑफ भारत’ लिखा गया है, हाल ही में सत्ता पक्ष के कई नेताओं ने भी ‘INDIA’ नाम को गुलामी का प्रतीक बताते हुए इस हटाने की अपील की थी.

उत्तराखंड फिल्म एवं संगीत जगत की सभी ख़बरों को विस्तार से देखने के लिए हिलीवुड न्यूज़ को यूट्यूब पर सब्सक्राइब करें।

Exit mobile version