Makar Sankranti 2020: मकर संक्रांति पर सूर्य के राशि परिवर्तन का राशियों पर होगा यह असर ,पढ़ें रिपोर्ट

0
512

Makar Sankranti 2020: मकर संक्रांति पर सूर्य के राशि परिवर्तन का राशियों पर होगा यह असर ,पढ़ें रिपोर्ट

मकर संक्रान्ति हिन्दुओं का प्रमुख पर्व है। मकर संक्रान्ति पूरे भारत और नेपाल में किसी न किसी रूप में मनाया जाता है। पौष मास में जब सूर्य मकर राशि पर आता है तभी इस पर्व को मनाया जाता है। वर्तमान शताब्दी में यह त्योहार जनवरी माह के चौदहवें या पन्द्रहवें दिन ही पड़ता है , इस दिन सूर्य धनु राशि को छोड़ मकर राशि में प्रवेश करता है।

Makar Sankranti 2020

यह भी पढ़ें : गुड न्यूज़ के बाद अक्षय कुमार की अगली फिल्म ‘बेल बॉटम’ की तैयारियां शुरू

तमिलनाडु में इसे पोंगल नामक उत्सव के रूप में मनाते हैं जबकि कर्नाटक, केरल तथा आंध्र प्रदेश में इसे केवल संक्रांति ही कहते हैं। मकर संक्रान्ति पर्व को कहीं-कहीं उत्तरायणी भी कहते हैं, यह भ्रान्ति है कि उत्तरायण भी इसी दिन होता है। किन्तु मकर संक्रान्ति उत्तरायण से भिन्न है।

Makar Sankranti 2020

यह भी पढ़ें : दरवान नैथवान ने लगाए हेमा नेगी करासी पर गंभीर आरोप ,पढ़ें यह रिपोर्ट

मकर संक्रांति का पर्व बुधवार को श्रद्धा, उल्लास और पंरपरा के अनुसार मनाया जाएगा। इसी दिन माघ मास के दूसरे प्रमुख स्नान पर्व पर लाखों श्रद्धालु संगम समेत गंगा-यमुना के विभिन्न घाटों पर आस्था की डुबकी लगाएंगे। घरों में पारंपरिक रूप से खिचड़ी मनाई जाएगी। इसके साथ ही लोग पतंगबाजी का लुत्फ उठाएंगे। इस बार मकर संक्रांति पर शोभन और बुधादित्य योग होने से स्नान, दान का महापुण्य मिलेगा। मान्यता है कि यहां जितने भी दान किए जाते हैं वे अक्षय फल देने वाले होते हैं।

Makar Sankranti 2020

दर्शको को लुभा रहा है , एक ऑफिस कांसेप्ट से सजा गढ़वाली वीडियो सांग ” त्वे मा लगी”

उत्थान ज्योतिष संस्थान के पं. दिवाकर त्रिपाठी पूर्वांचली के अनुसार सूर्य अपनी स्वाभाविक गति से प्रत्येक वर्ष 12 राशियों में 360 अंश पर परिक्रमा करते हैं। एक राशि में 30 अंश का भोग करते हुए सूर्य दूसरे राशि में जाते हैं। धनु राशि को छोड़कर जब सूर्य मकर राशि में प्रवेश करते हैं तो मकर संक्रांति मनाई जाती है।संगम पर तिल के तेल का जलाएं दीपक: सूर्य के संक्रमण से बचने के लिए संगम तट पर तिल के तेल का दीपक जलाना चाहिए। द्वादश माधव के तहत भगवान वेणी माधव को प्रमुख तीर्थ के रूप में माना जाता है। इसलिए उन्हें दीप दान अवश्य करना चाहिए।खिचड़ी, तिल का दान फलदायी मकर संक्रांति पर खिचड़ी, तिल, गुड़, चावल, नीबू, मूली, उड़द दाल और द्रव्य का दान करना चाहिए। इस दिन सूर्य को आराध्य मानकर पितरों को भी तिल, दान करना पुण्यदायी है।

Makar Sankranti 2020

यह भी पढ़ें : उत्तराखंड का जवान कश्मीर में लापता, राजेन्द्र के लिए रो रहा पूरा परिवार

मेष : राज्य में वृद्धि, गृह व वाहन सुख। वृष : पराक्रम में वृद्धि, भाग्य में वृद्धि, राज्य से लाभ। मिथुन: धन में वृद्धि व पेट की समस्या। कर्क : दापंत्य में अवरोध, सरकारी लाभ। सिंह: रोग ऋण शत्रुओं की पराजय। कन्या : पढ़ाई में अवरोध, संतान पर खर्च, आय में वृद्धि। तुला : जमीन जायदाद से लाभ, माता के स्वास्थ्य की चिंता। वृश्चिक : पराक्रम में वृद्धि, पिता का सहयोग। धनु : वाणी तीव्र, पेट की समस्या, धन वृद्धि, लाभ। मकर : दांपत्य में तनाव, पिता से कष्ट, मानसिक पीड़ा। कुम्भ : आंख में कष्ट, दांपत्य में अवरोध, शत्रु विजय। मीन : आय में वृद्धि, अध्ययन में अवरोध, शत्रु विजय

यह भी देखें :

Facebook Comments