वैज्ञानिकों के लिये भी शोध बन चुके जाख मेले में धधकते अंगारों पर तीन तीन बार नृत्य किया भगवान यक्ष ने। यक्ष का दूसरा रूप कुत्ते ने भी अंगारों पर नृत्य करके ली लोगों की बलायें।

0
308

धधकते लाल अंगारों पर तीन बार नृत्य करके भक्तों की बलायें लेने के साथ ही प्रसिद्ध और एतिहासिक जाख मेला सम्पन्न हो गया, इस दौरान आश्चर्य को अपने में समेटे हजारों लोग इस अविस्मरणीय पल के गवाह बने। प्रतिवर्ष वैशाख मास के 15 अप्रैल को लगने वाले इस मेले में ना केवल आस्था आध्यात्म का ही बल मिलता है, बल्कि रहस्यमयी बातों को अंधविश्वास करार देने वाले वैज्ञानिकों के लिये भी यह शोध का विषय है। विशाल अग्नि कुंड में धधकते अंगारों पर ज्यों ही भगवान यक्ष के नर पश्वा ने नृत्य करना शुरू किया, भक्तों ने यक्ष राज के जयकारे लगाने शुरू कर दिये।

जरूर पढ़ें : उत्तराखण्डी फीचर फिल्म ‘कन्यादान’ के सेट से तस्वीरें वायरल ! !त्रियुगीनारायण में हो रही है शूटिंग !!

रविवार देर रात्रि को जाख मंदिर के अग्रभाग में विशाल अग्नि कुंड में हकहकूकधारी ब्राम्हणों द्वारा अग्नि की स्थापना की। पुनः विशाल पेड़ सदृश लकड़ियों को सप्तजीवा पर सजाकर वेदमंत्रों द्वारा अग्नि प्रज्ज्वलित की। इसके बाद रात भर जागरों तथा कीर्तनों के माध्यम से जागरण करके यक्ष भगवान को प्रसन्न किया गया। प्रातः काल नारायणकोटी यक्ष के नर पश्वा के गृह मंे ब्राम्हणों द्वारा मंत्रो च्चार द्वारा पूजा अर्चना करके शक्ति का संचार किया गया। हजारों की तादात में भीड़ तथा वाद्य यंत्रों की स्वरलहरी के बीच भगवान यक्ष के पश्वा का श्रृं्गार किया गया, गले में हरियाली की माला अलंकृत की गयी। जयकारों तथा जागरों के बीच नर पश्वा देवशाल गांव के विन्ध्यवासिनी मंदिर में पहुंचे, कुछ अंतराल विश्राम करके मंदिर की तीन परिक्रमायें पूर्ण करके जाख की कंडी को देवशाल के आचार्यों द्वारा पीठ पर लादकर जाख मंदिर की ओर प्रस्थान किया गया, इसके साथ ही जलता दिया भी कंडी में रखा गया।

जरूर पढ़ें : पलायन एवं असहाय माता पिता की कहानी दर्शाती लघु फिल्म ‘सौंजडया कू आखिरी साथ’ यूट्यूब पर उपलब्ध !! देखें जरूर !!

जाख मंदिर में पहुंचते ही नर पश्वा ने मंत्रोच्चार के साथ ही मुख्य मंदिर की तीन परिक्रमायें पूर्ण की, निकट ही पौराणिक बांज के पेड़ के निकट विश्राम किया, इस दौरान चार जोड़ी ढोल दमाउं की स्वर लड़ाई तथा पौराणिक जागरों के बीच यक्ष के नर पश्वा पर देवता अवतरित हुये। और मुख्य मंदिर में जाकर गागर के शीतल जल से स्नान किया गया, इसके बाद द्रुग गति से यक्ष ने विशाल अग्निकुंड में धधकते अंगारों पर नृत्य किया। यह क्रम इस बार तीन बार पूर्ण किया गया। प्रत्यक्षदर्शियों की मानें तो लगभग 15 वर्ष बाद ऐसा अद्भुत संयोग हुुआ है, कि नर पश्वा ने तीन बार नृत्य करके लोगों की बलायें ली, इससे पूर्व केवल दो या एक बार ही नर पश्वा दहकते अंगारों पर नृत्य करता था। अंगारों पर नृत्य सम्पन्न होने के बाद ही अचानक बरसात शुरू हो गयी, जो क्षेत्र के लिये शुभ संकेत भी है। यक्ष को बरसात का देवता भी मानते हैं। वर्षों से नृत्य के बाद बरसात होना लाजिमी होता है, इसे मेले की सफलता भी माना जाता है। सामाजिक कार्यकर्ता विजय रावत ने बताया कि जागरों तथा वेद मंत्रों की ऋचाओं के गगनभेदी स्वर लहरी के बीच भगवान यक्ष के शरीर में कंम्पन शुरू हो गयी और तुरंत दहकते अंगारों पर नृत्य किया। उन्होने बताया कि संभवतः 15 वर्ष पूर्व नर पश्वा इस कुंड में केवल एक या दो बार ही नृत्य करते थे, कहा कि कई वर्षों बाद इस तरह का नजारा हमें देखने को मिला है।

VIDEO – मास्टर मोहित सेमवाल का पांगरी का मेला गीत से संगीत जगत में शानदार पदार्पण !! अभिनय एवं गायकी में दिखाए जौहर !!

बांक्स न्यूज। इस बार जाख मेले में अजीब सा दृश्य देखने को मिला, जब कुंड के एक किनारे पर अचानक प्रकट हुये कुत्ते ने भी नर पश्वा के पीछे पीछे इन धधकते अंगारों पर नृत्य किया और मंदिर के दरवाजे पर बैठ गया। देखने वाले इसे आध्यात्म तथा आस्था से जोड़कर देख रहे हैं। हुआ यूं कि जब यक्ष के नर पश्वा दो बार अंगारों पर नृत्य करके मंदिर की ओर पहुंचे तो इसी दौरान अग्निकुंड के समीप अचानक प्रकट हुये कुत्ते ने भी अंगारों पर दौड़कर नृत्य किया। वरिष्ट आचार्य हर्षवर्द्धन देवशाली, महेन्द्र देवशाली, विनोद देवशाली , सतीश चन्द्र से बताया कि कुत्ते को भी यक्ष का रूप माना जाता है, यह अमूमन यक्ष के ही सानिध्य में रहता है, इसलिये नर पश्वा के साथ ही कुत्ते ने भी अंगारों पर नृत्य किया है, कहा कि यह सभी भक्तों का परम सौभाग्य है, कि यह आध्यात्मिक दृश्य इतिहास में पहली बार सभी लोगों को दृष्टिगत हुआ है, जब भगवान यक्ष के दो रूपों का सानिध्य एक साथ एक ही स्थान पर सभी भक्तों को प्राप्त हुआ है।

बांक्स न्यूज। जाख मेले में विभिन्न स्थानों से आये भक्तों ने जमकर खरीददारी की। साथ ही बच्चों ने आइसक्रीम तथा चरखी का भी जमकर लुत्फ उठाया। अग्निकुंड की भभूत को सभी भक्त अपने साथ प्रभु का आशीर्वाद समझकर साथ ले गये। मान्यता है, कि इस अग्निकुंड की यह भभूत कई चर्मरोगों की अचूक दवाई भी है।

HILLYWOOD NEWS
बिपिन सेमवाल

Facebook Comments