‘काफल पाको “Kafal Paako” मैं नि चाखो’ की कहानी बयां करता है ये गीत

0
1278
kafal paako song

Kafal Paako Song गर्मियां शुरू हो गई है और इन दिनों उत्तराखंड के जंगलों में काफल का फल पकने को तैयार है। काफल वहीं फल… जिस पर प्रसिद्ध गाना बना है बेडू पाको बारामास नारयणी काफल पाको चैत..।

ऐसा ही एक और गढ़वाली गीत है काफल पाको मैन नि चाखो… जो उत्तराखंड की लोककथा पर आधारित है। यह गीत सुनने में जितना अच्छा है, इसकी कहानी भी उतनी ही दिलचस्प है।
दरअसल उत्तराखंड में एक लोककथा प्रचलित है कि उत्तराखंड के एक गांव में एक गरीब महिला रहती थी, जिसकी एक छोटी सी बेटी थी। दोनों एक दूसरे का सहारा थे। आमदनी के लिए उस महिला के पास थोड़ी-सी जमीन के अलावा कुछ नहीं था, जिससे बमुश्किल उनका गुजारा चलता था।

गर्मियों में जैसे ही काफल पक जाते, महिला बेहद खुश हो जाती थी। उसे घर चलाने के लिए एक आय का जरिया मिल जाता था। इसलिए वह जंगल से काफल तोड़कर उन्हें बाजार में बेचती, जिससे परिवार की मुश्किलें कुछ कम होतीं। एक बार महिला जंगल से एक टोकरी भरकर काफल तोड़ कर लाई।

उस वक्त सुबह का समय था और उसे जानवरों के लिए चारा लेने जाना था। इसलिए उसने इसके बाद शाम को काफल बाजार में बेचने का मन बनाया और अपनी मासूम बेटी को बुलाकर कहा, ‘मैं जंगल से चारा काट कर आ रही हूं। तब तक तू इन काफलों की पहरेदारी करना। मैं जंगल से आकर तुझे भी काफल खाने को दूंगी, पर तब तक इन्हें मत खाना।’

स्वाणु सजिलो मेरु कौब गौं वीडियो में दिखेगी प्रकर्ति एवं संस्कृति का अनूठा मेल !प्रोमो रिलीज़ !
मां की बात मानकर मासूम बच्ची उन काफलों की पहरेदारी करती रही। इस दौरान कई बार उन रसीले काफलों को देख कर उसके मन में लालच आया, पर मां की बात मानकर वह खुद पर काबू कर बैठे रही। इसके बाद दोपहर में जब उसकी मां घर आई तो उसने देखा कि काफल की टोकरी का एक तिहाई भाग कम था। मां ने देखा कि पास में ही उसकी बेटी सो रही है।

सुबह से ही काम पर लगी मां को ये देखकर बेहद गुस्सा आ गया। उसे लगा कि मना करने के बावजूद उसकी बेटी ने काफल खा लिए हैं। इससे गुस्से में उसने घास का गट्ठर एक ओर फेंका और सोती हुई बेटी की पीठ पर मुट्ठी से जोरदार प्रहार किया। नींद में होने के कारण छोटी बच्ची अचेत अवस्था में थी और मां का प्रहार उस पर इतना तेज लगा कि वह बेसुध हो गई।

कभी 96 किलो था सारा खान का वजन, ऐसे हुई फैट से फिट
बेटी की हालत बिगड़ते देख मां ने उसे खूब हिलाया, लेकिन तब तक उसकी मौत हो चुकी थी। मां अपनी औलाद की इस तरह मौत पर वहीं बैठकर रोती रही। उधर, शाम होते-होते काफल की टोकरी फिर से पूरी भर गई। जब महिला की नजर टोकरी पर पड़ी तो उसे समझ में आया कि दिन की चटक धूप और गर्मी के कारण काफल मुरझा जाते हैं और शाम को ठंडी हवा लगते ही वह फिर ताजे हो गए। अब मां को अपनी गलती पर बेहद पछतावा हुआ और वह भी उसी पल सदमे से गुजर गई।

कहा जाता है कि उस दिन के बाद से एक चिड़िया चैत के महीने में ‘काफल पाको मैं नि चाख्यो’ कहती है, जिसका अर्थ है कि काफल पक गए, मैंने नहीं चखे..। फिर एक दूसरी चिड़िया ‘र्पुे पुतई र्पुे पुर’ गाते हुए उड़ती है। इसका अर्थ है ‘पूरे हैं बेटी, पूरे हैं’..।

Kafal Paako Song ये कहानी जितनी मार्मिक है, उतनी ही उत्तरखंड में काफल की अहमियत को भी बयान करती है। अब यहां सुनिए पम्मी नवल और अमीषा ठाकुर की आवाज में ये मार्मिक गीत।

Facebook Comments