बौडी आवा शार्ट फिल्म में कोरोना,महंगाई और बेरोज़गारी से त्रस्त उत्तराखंडियों को देवभूमि का आमंत्रण!

1
220

उत्तराखंड पलायन एवं बेरोजगारी की मार झेल रहा है,देवभूमि अपने सौंदर्य के लिए विश्वविख्यात है,लेकिन दुर्भागय है इस धरा पर कोई रहना नहीं चाहता,बौडी आवा शार्ट फिल्म ने कोरोना महामारी,महंगाई और बेरोजगारी से त्रस्त उत्तराखंडवासियों को एक महत्वपूर्ण सन्देश देने का कार्य किया है। 

उत्तराखंड के प्रसिद्ध अभिनेता एवं लेखक राजेश मालगुडी ने बौडी आवा शार्ट फिल्म से उत्तराखंडवासियों को एक सकारात्मक सन्देश देने का सफल प्रयास है,भले ही पटकथा की अवधी 5 मिनट से भी कम है लेकिन पटकथा के शानदार लेखन एवं राजेश मालगुडी के संवादों ने बहुमूल्य सन्देश दिया है।

यह भी पढ़ें : चांदी को बाटना वीडियो में हिमांशु संग अंकिता की जमी जोड़ी,दर्शकों की यादों में लौटे लोकगायक चंद्र सिंह राही !

पटकथा एवं लेखन राजेश मालगुडी का ही रहा,शार्ट फिल्म की कहानी वर्तमान हालातों को देखकर रची गई है,सत्य यही है कि पुरानी पीढ़ी ने ही उत्तराखंड के गौरव का मान रखा है,जबकि जो सुविधाएं आज के समय में हैं इनसे पुराने वासी दूर दूर तक वंचित थे,उस दौर में हजारों गाँव सड़क,बिजली स्वास्थ्य एवं शिक्षा जैसी मूलभूत सुविधाएं नहीं थी लेकिन तब भी असल पहाड़ियों ने धैर्य का परिचय दिया और देवभूमि को सँवारने का कार्य किया।

यह भी पढ़ें : कुमाउनी गायिका मेहना चन्द्रा ने गाया लोकप्रिय शिव शक्ति उत्सव ‘गमरा’ पर गीत! लोकगीत गमरा को जानने के लिए पढ़ें रिपोर्ट !

खेती बाड़ी,जंगल से ही अपना गुजारा चलाया ,लेकिन अब सब सुख सुविधा होने के बाद भी हजारों गाँव वीरान हो चुके हैं और बुजुर्गो के खून पसीने से बने घर बंजर हो चुके हैं,आज की युवा पीढ़ी शिक्षित भले ही हुई है लेकिन अपनी जड़ों से दूर जा रही है ,गाँव की शुद्ध हवा पानी को छोड़कर शहरों के प्रदुषण एवं चार दीवारी को ही अपनी दुनिया समझने लगी है।

यह भी पढ़ें : उत्तराखंड में बेरोजगारी एवं पलायन की हकीकत को दर्शाती ‘बाटुली’ शार्ट फिल्म !

गाँव आना तो हर कोई चाहता है लेकिन इस जीवन को जीना कोई नहीं चाहता,लेकिन जब से कोरोना महामारी हुई है कहीं न कहीं इसने उत्तराखंडवासियों को अपनी थाती माटी से जोड़ने का काम किया है,पहाड़ी राज्यों से कई सुकून दिलाने वाली तस्वीरें इंटरनेट के माध्यम से नजर आने लगी हैं,जिससे उम्मीद लगाई जा सकती है अब उत्तराखंड में भी स्वरोजगार के अवसर खुल सकते हैं,सरकार भी अपनी तरफ से हरसंभव प्रयास कर रही है और पहाड़ की जवानी को यहीं काम में लाना चाहती है।

यह भी पढ़ें : उत्तराखंडी गायक विरेंद्र राजपूत ने गाया खुदेड़ गीत,सात समोद्र पार ऐग्यों। छलका प्रवासियों का दर्द !

पटकथा एवं बेहतरीन संवादों से सजी ये शार्ट फिल्म बौडी आवा जरूर नई राह दिखाने का कार्य करेगी,ऐसी शार्ट फिल्म के निर्माण के लिए हिलीवुड न्यूज़ राजेश मालगुडी की सकारात्मक सोच की सराहना करता है,इसका फिल्मांकन पंकज कंडारी ने किया है,संपादन का कार्य दिलीप कुमार द्वारा किया गया है,निर्देशन राजेंद्र नेगी एवं बृजेश रावत का रहा।शार्ट फिल्म में राजेश मालगुडी एवं चंदा ममगाईं मुख्य भूमिका में रहे,रंजीत भारती,दुष्यंत ढौंडियाल एवं प्रेम चन्द्रा ने अपनी अहम् भूमिका निभाई। इसकी शूटिंग ग्राम कोट,धारकोट,तानकला एवं जुगड़ में हुई है।

यह भी पढ़ें : पदमश्री जागर सम्राट प्रीतम भरतवाण का माहेश्वरी जागर रिलीज़ !ढोल की थाप से गूँजी देवभूमि !

आप भी देखिए बौडी आवा शार्ट फिल्म और सन्देश को अमल में जरूर लाएं उत्तराखंड के विकास में एक भूमिका जरूर निभाइए,शायद पलायन एवं बेरोजगारी मुक्त प्रदेश बनने में आपका भी अहम् योगदान याद किया जाए।

 

Facebook Comments