कोरोना वायरस के चलते गाँवो की तरफ आ रहे युवाओं को ये फिल्म जरूर देखनी चाहिए

0
496

रोजी रोटी की वजह से पहाड़ों से पलायन कर चुके युवा कोरोना वायरस (Corona Virus) के चलते लगातार अपने गांव का का रुख कर रहे हैं बड़े शहरों में कई सारी कंपनी और फैक्ट्री फिलहाल लॉक डाउन की वजह से बंद है ऐसे में परिवार से दूर बिना रोजी रोटी के रहना हर किसी के लिए बहुत ही मुश्किल होता है इसी बीच यूट्यूब पर गांव वापसी Goun wapasi एक लघु फिल्म रिलीज हुई है जो आजकल काफी वायरल हो रही है अगर आपने भी आजकल अपने गांव की तरफ रुख किया है और कोरोनावायरस में लॉकडाउन Uttarakhand Lockdown की वजह से आप घर पर बैठे हैं तो इस फिल्म को जरूर देखना चाहिए |

कोरोना वायरस – सलमान खान इस तरह करेंगे ध्याड़ी मजदूरों की सहायता बढ़ाया मदद का हाथ

इस गढ़वाली फिल्म में आपको देखने को मिलेगा एक उत्तराखंड का युवा जो दूर परदेश में चंद रुपयों की ख़ातिर वेटर की नौकरी करता है, मगर एक दिन ऐसा मोड़ आता है कि उसके अंदर का स्वाभिमानी पहाड़ी एक ठेस के कारण जाग उगता है और वह गाँव जाकर सरकार की विभिन्न योजनावों का उपयोग कर अपनी पुश्तैनी बंजर जमींन पर फसल रूपी ऐसा सोना उगाता है कि दुनिया के लिए एक मिशाल बन जाता है, गाँव के अनेक बेरोजगार युवक युवतियां भी उससे घर में ही रोज़गार पाते हैं, गाँव में हरयाळी और #ख़ुशहाली की बयार छा जाती है। पलायन से वापस पहाड़ के गाँवों के आबाद की होने की किरण दिखाई देती है। इसके लिए वह युवक इस माधो कार्य के लिए प्रदेश के मुख्यमंत्री जी के हाथों “उत्कृष्ट कृषक” सम्मान पाता है।

Lock Down With Parivar , आशीष चंचलानी का मज़ेदार वीडियो यूट्यूब में हुआ ट्रेंड

फिल्म के लेखक निर्देशक प्रदीप भण्डारी ने बताया कि दिल छूने वाली भावात्मक 37 मिनट की यह फ़िल्म आपको यूँ बांधेगी कि आपको यूँ लगेगा कि 5 -7 मिनट के गाने की तरह यह फ़िल्म कब खत्म हो गई है। आपसे विनम्र निवेदन है कि आजकल खाली समय का पूर्ण उपयोग करते हुए इस फ़िल्म का प्रत्येक डायलॉग जरूर सुनें, गाने और प्रत्येक सीन पर जरूर गौर कीजिये । फ़िल्म अच्छी लगे तो प्रदेश हित में बहुत मेहनत से बनाई गई इस फ़िल्म को प्रदेश के प्रत्येक नागरिक तक पहुँचाने में आपसे भी अनुरोध है कि फिल्म को शेयर कर और यूट्यूब कमेंट्स में ही अपना कमेंट्स लिखकर अपना योगदान दीजियेगा।

हिन्दी में क्यों के सवाल का जवाब देते हुए उन्होंने बताया कि बहुत सारे मित्रों ने यूट्यूब में फिल्म की जमकर तारीफ़ की है. साथ ही यह नाखुशी भी जताई कि गढ़वाली पृष्ट्भूमि की कथा वस्तु होने के बावजूद फिल्म हिन्दी में क्यों, तो पहले तो मैं इन सभी भाइयों का हृदय से आभार व्यक्त करता हूँ. मुझे अच्छा लगा कि आज भी भाषा को प्यार करने वाले गढ़प्रेमियों की कोई कमीं नहीं है, पर साथ ही इसका कारण भी बताता हूँ कि – क्यूँकि आज सम्पूर्ण पहाड़ (उत्तराखण्ड ) पलायन की पीड़ा से जूझ रहा है। फिल्म का मकसद सम्पूर्ण उत्तराखंड के उन लोगों को वापस पहाड़ जाने एवं पुश्तैनी कृषि को पुनः करने के लिए प्रेरित करना है जो रोजगार के अभाव में पहाड़ छोड़ आये हैं और दूर प्रदेशों में मामूली से पैसों के लिए कष्टपूर्ण जिंदगी जीने को मजबूर हैं ।

फैंस के लिए बाबा केदार और बद्रीनाथ से कोरोना वायरस से बचाने के लिए गीताराम कंसवाल ने गीत गाकर की प्रार्थना

उन्होंने बताया कि वैसे तो हमने पूर्ण वातावरण और टोन पहाड़ी ही रखा है, फ़िल्म की भाषा हिन्दी होने के बावजूद पूरा गढ़वाली “फ़ील” दे रही है फिरभी दोस्तों इसका मूल कारण बताता हूँ कि ‘फ़िल्म को बनाने का मूल मकसद उत्तराखंडियों को अपनी कृषि और गाँव के प्रति आकर्षित करना है, प्रेरित करना है। लेकिन फ़िल्म में कहे जाने वाली बात आम लोगों समझ में आनी चाहिए। मगर दोस्तों जैसा कि हम जानतें हैं कि उत्तराखण्ड में #गढ़वाली, #कुमाऊंनी, #जौनसारी के अलावा गढ़वाल छेत्र में – #रवांल्टा, #जाड़भाषा, #बंगाणी, #मार्च्छा, #तोल्छा, #जौनपुरी तथा कुमाऊं छेत्र में #मेंकुमइया, #सोयार्ली, #अस्कोटी, #सीराली, #खसपर्जिया, #चौंग्खर्सिया, #गंगोली आदि लगभग डेढ़ दर्जन से अधिक उपबोलियाँ बोली जाती हैं। इन भाषावों को बोलने वाले अधिकांश लोगों को गढ़वाली नहीं आती. जबकि यह फिल्म प्रदेश की 50 #लाख़ से अधिक हिन्दी भाषी गैर गढ़वाली #जनता तथा #नेता और #नौकरशाहों को दिखाना भी मकसद है. क्यूंकि इन सबका पहाड़ के प्रति ध्यान जगने से ही पहाड़ वापसी और विकास का सपना रफ़्तार से पूरा होगा। फ़िल्म को सभी देख सकें समझ सकें अतः इस उद्देश्य से फ़िल्म की भाषा हिंदी रखी है। “गाँव वापसी”

छोरी बिंदास विडियो रिलीज़ दर्शकों को खूब आ रहा पसंद – आप भी पढ़ें

Facebook Comments