गजेंद्र राणा का नया गीत बुल्का छोरी हुआ रिलीज़ पुराने अंदाज में दिखे लोकगायक राणा !

0
525
GAJJU RANA

उत्तराखण्ड के युवाओं के दिल की धड़कन गजेंद्र राणा इस बार बुल्का छोरी के मुल्क आ गए हैं। अपने अंदाज में एक बार फिर गजेंद्र राणा दर्शकों के बीच अपना नया गीत लेकर आए हैं गीत के बोल हे ली छोरी बुल्का मैं ऐग्यों तेरा मुल्का। गुंजन डंगवाल के संगीत और मिक्सिंग ने गीत को नया अंदाज दिया है जो कि दर्शकों को श्रोताओ को थिरकायेगा जरूर।

यसी जुडी तेरी माया से रचिता कुकरेती ने की वापसी – स्वर्गीय पप्पू कार्की ने दी है आवाज़

गजेंद्र राणा ने इस बार अपने दर्शकों को नए गीत के लिए काफी लम्बा इन्तजार करवाया है बुल्का छोरी का प्रोमो काफी समय पहले रिलीज़ हो चुका था। आखिरकार दर्शकों का इन्तजार ख़त्म हुआ और कल शाम गजेंद्र राणा के ऑफिसियल यूट्यूब चैनल पर गीत का ऑडियो रिलीज़ किया गया जो अभी तक 10000 दर्शकों ने देख भी लिया है और ढेर सारा प्यार अपनी टिप्पणियों के जरिये दे रहे हैं।

रेशमा छोरी गीत बना युवाओं की पहली पसंद अब तक यूट्यूब पर मिले 1 मिलियन से अधिक व्यूज

गजेंद्र राणा गढ़वाल की खूबसूरत बाँदो पर गीत बनाने में माहिर हैं। ऐसी कोई बाँद नहीं है जिस पर उन्होंने गाना न गाया हो पर जो हिट फुर्की बाँद एल्बम हुई थी उसकी उम्मीद उनके प्रशंशक हर गीत से करते हैं। कई बार गजेंद्र राणा को आलोचनाओं का भी सामना करना पड़ा है लेकिन हर बार उन्होंने अपने आलोचकों का मुँह अपने गानों के माध्यम से ही चुप कराया है।

बामणी 2 गीत की रचना का क्या था उद्देश्य जानना जरुरी है – देखें पलायन पर कटाक्ष – गीत के माध्यम से

हाल ही में लोकगायक राणा गुप्तकाशी की सपना छोरी गीत भी गा चुके हैं तथा अपने ही पुराने गीत लीला घस्यारी का भी पार्ट 2 निकाल चुके हैं जिन्हें भी दर्शकों ने खूब प्यार दिया है इसके आलावा इस वर्ष के शुरुवात में ही गजेंद्र राणा फिर से वापसी का मन बनाकर आए हैं अलग अलग उत्तराखण्डी यूट्यूब चैनलों पर उनके कई गीत /वीडियो रिलीज़ हुए हैं जिनमे छोरी देहरादून की, कमली भाना , I LOVE YOU बोल दे जिनकों दर्शकों ने पसंद किया है।

GUNJAN

इस गीत से भी सभी को उमीदें हैं अब देखना ये होगा उत्तराखण्ड में अपने संगीत के दम पर सब के दिलों पर छाने वाले गुंजन डंगवाल और लोकप्रिय गजेंद्र राणा की जोड़ी इस बार कितना धमाल मचाती है।

गीत को जरूर सुनें

HILLYWOOD NEWS
RAKESH DHIRWAN

Facebook Comments