Film Review: जानिये कैसी है गढ़वाली फिल्म ‘दद्दी कु बक्सा’, पढ़े यह ख़ास रिपोर्ट

0
76

बीते 28 जून से गढ़वाली फीचर फिल्म “दद्दी कु बक्सा” राजधानी देहरादून के सिल्वर सिटी देहरादून में लग चुकी है। फिलहाल यह  फिल्म सिलवर सिटी में ही दिखाई जा रही है। जिसकी शो की टाइमिंग क्रमशः 4:30 बजे है। जनता को यह फिल्म काफी पंसद आ रही है आइये जानते हैं कैसी है यह फिल्म ।

कलाकार – अजय सोलंकी, राजेश गुसाई, पदम् गुसाईं, विजय भारती, आयुषी जुयाल, शिवानी भंडारी, पुरषोस्तम जेठुड़ी, प्राची पंवार, आनन्द सिलसिवाल, मंजू बहुगुणा

Manju Bahugunga , Rajesh Joshi, Padam Gusain , Purushottam Jethuri , Vejay Bharte , Ajay HA Solanki , Gunjan Tiwari, Mani Bharti ,Anand Silswal , Shivani Bhandari , Ayushi Juyal , Prachi Panwar , Kanchan Rawat , Shiv Kumar , Ravi Negi , Rai Singh Rawat , Raj Kapsudi , Sunita Rawat ,Akki Rawat

 

  •  निर्देशक: विजय भारती 
  • एडिटर – नागेंद्र प्रसाद
  • प्रोडूसर – रेनू भारती 

स्टोरी: “दद्दी कु बक्सा” फिल्म की कहानी चार भाइयों से शुरू होकर उत्तराखण्ड में हो रहे पलायन के साथ भाई-भाई के बीच विवाद और जमीन जायदाद की लालसा के ताने बानों में बुनी गयी है। जिसमें छोटी उम्र में ही बच्चों के सिर से माँ- बाप का साया उठ जाता है और उनके लालन पालन की जिमेदारी अकेले दादी के कंधो पर आ जाती है। दादी भी उम्मीद के साथ अपने नाती पोतों के अच्छे भविष्य के लिए दिन रात मजदूरी करती है और उन्हें अच्छी शिक्षा देती है। लेकिन दादी के नाती शहर की और पलायन कर जाते हैं और अपने दादी के उस प्यार के साथ भाइयों के साथ को भी छोड़ अलग- अलग अपना घर बसाते हैं। एक दिन कुछ ऐसा हुआ की सभी भाई अचानक घर आ गए लेकिन घर आने की वजह हैरान कर देने वाली थी। और यह वजह क्या थी यह जानने के लिए आपको सिनेमाहाॅल में जाना होगा।

 

रिव्यू: फिल्म की स्टोरी काफी बेहतरीन लिखी गयी है निर्देशक ने पूरी कोशिश की है कलाकारों से सही काम लेने की, फिल्म कहीं भी दर्शकों को बोर नहीं करती है। फिल्म में काफी कॉमेडी से भरे सीन और डरावने सीन भी दिखाए गए है। जिस वजह से यह फिल्म दर्शकों को काफी पंसद आ रही है। वहीं फिल्म में प्रीतम भरतवाण की आवाज से सजा गीत मेरी सुवा और मीना राणा की मधुर आवाज से सजा गीत सौजाडिया भी सुनने को मिला है जो कि दर्शकों को बेहद पसंद आया है। वहीं मंजू बहुगुणा (दद्दी) के बक्से के अन्दर मिले खजाने ने दर्शकों को फिल्म के आखिर में इमोशनल कर दिया यह। यानि की कुल मिलाकर देखा जाये तो फिल्म बेहद अच्छी बनी है और दर्शकों से अच्छा रिसपांस फिल्म को भी देखने को मिला है।