धनी शाह ने पहाड़ों में लोकप्रिय लोकोक्ति ‘घाम ले बरखा स्याल को बौ ” को गीत के माध्यम से किया उजागर ! पढ़ें रिपोर्ट !

0
449

हमारे उत्तराखण्ड में एक कहावत बहुत प्रसिद्ध है ” घाम पाणी स्याल कू ब्यौ,रिखे राणी नाचण ओं,उत्तराखण्ड का सुहाना मौसम सभी को लुभाता है और जब बारिश और धूप एक साथ हो तो उस मौके पर यह कहावत आम है।

जरूर पढ़ें : ऐसा रहा सुपर सन्डे ! उत्तराखंड संगीत जगत में क्या हुआ खास देखें रिपोर्ट!

सरगम म्यूजिक यूट्यूब चैनल से रैली इस कहावत को गीत का रूप दिया है सोनी कोठियाल ने और इसे गाया है धनी शाह ने। गीत को संगीत विनोद चौहान ने दिया है।
प्रोमोशनल वीडियो में धनी शाह के साथ नागेंद्र प्रसाद,अरुण फरासी,सोनी कोठियाल,माहि सुरियाल भी गीत का आनंद लेते दिखे।

जरूर पढ़ें : जागर सम्राट प्रीतम भरतवाण का ‘नथुली’ वीडियो रिलीज़ ! दर्शकों को पसंद आई नथुली रम झम ! देखें वीडियो !

पहाड़ में ऐसी कई अनगिनत कहावते प्रसिद्ध हैं और एक कहावत शादी को लेकर और बड़ी चर्चा में रहती है कि अगर शादी में बारिश हुई तो दूल्हा या दुल्हन ने जरूर खाना खाते समय करछी को झूठा किया होगा,अब इस बात का शादी से क्या लेना देना ये तो शायद किसी को भी पता नहीं होगा।लेकिन कहावतें और लोकोक्तियाँ यूँ ही प्रसिद्ध हो जाती हैं।

जरूर पढ़ें : रिलीज़ हुआ v cash का हिट मेरा डाण्डा गौं म्यूजिक वीडियो ! वीडियो को दिया मॉडर्न अंदाज !

ऐसी ही एक घटना का वर्णन घाम बरखा स्याल को बौ गीत के माध्यम से किया गया है,और आपको जरा इसका हिंदी में भी अर्थ जानना जरुरी है।
घाम -धूप
पाणी -पानी
स्याल- गीदड़ ,सियार
रिख -भालू
राणी -रानी
ब्यौ -विवाह
नाचण-नाचने

पढ़ें क्या है पूरा मामला : उत्तराखण्डी भाषाओं को संविधान की आठवीं अनुसूची में शामिल कराने हेतु नेगी दा की” धै ” ! कब जागेगी सरकार ?

धनि शाह के हे जमना,पारु,भानु मिजाज्या,रांझणा स्याली गीत काफी लोकप्रिय हैं।

अब आप समझ ही गए होंगे आखिर क्या कहानी है इस कहावत के पीछे,अगर कभी अवसर मिले इस तरह के मौसम का तो जरूर कहना घाम पाणी स्याल कू ब्यौ।
Hillywood News
Rakesh Dhirwan

अगर आपके पास भी ऐसी ही कोई कहावत है तो हमें लिख भेजिए हमारे फेसबुक पेज पर

Facebook Comments