देहरादून : गढ़रत्न नरेंद्र सिंह नेगी ने कलाकारों से की गोष्टी,कलाकारों के सामने रोजी रोटी का संकट!देखिए वीडियो !

1
764

देहरादून : उत्तराखंड के लोकगायक गढ़रत्न नरेंद्र सिंह नेगी ने उत्तराखंड के लोककलाकारों संग एक बैठक का आयोजन किया इस दौरान कोरोना काल में आर्थिक संकट से जूझ रहे कलाकारों की समस्या पर चर्चा हुई बैठक में कई कलाकार शरीक हुए।

यह भी पढ़ें : स्याली उलारया वीडियो में शालिनी के एक्सप्रेशन ने लूटा दर्शकों का चैन !पढ़ें रिपोर्ट !

कोविड 19 ने दुनिया की जीवन शैली को ही बदल के रख दिया है,इस दौरान मध्यम वर्गीय परिवार सबसे अधिक प्रभवित हुए,जिन परिवारों का भरण पोषण दैनिक रूप से मिलने वाले भत्ते से होता है,इससे सबसे अधिक प्रभाव उन पर पड़ा है,ऐसे परिवारों के बीच अब आर्थिक संकट की स्थति की पैदा हो गई है,उत्तराखंड के लोककलाकर जो सांस्कृतिक मंचों से अपने घर परिवार का लालन पालन करते थे वो अब बेबस हैं।

यह भी पढ़ें: कैसे समाज जात पात के बंधन में बांधकर दो प्रेमियों को जुदा कर देता है!’बहुत दूर’ वीडियो देखकर दर्शक हुए भावुक !

कोरोना काल में कहीं भी सांस्कृतिक कार्यक्रमों का आयोजन नहीं हो रहा है ऐसे में लोककलाकारों के मध्य असमंजस की स्थति उत्पन्न हो गई है,और आर्थिक संकट से उभर पाना मुश्किल हो गया है,जो कलाकर अपनी प्रस्तुतियों से दर्शकों का मनोरंजन करते हैं वो अब खुद ही लाचार बैठे हैं,इसी स्थति को देखते हए गढ़रत्न नरेंद्र सिंह नेगी ने लोककलाकारों के साथ एक बैठक की जिसमें सोशल डिस्टेंसिंग का पूरा ख्याल भी रखा गया।

यह भी पढ़ें: रिलीज़ हुआ खूबसूरत गीत घुंघुटी !विजय पूजा रवि की तिकड़ी ने मचाया धमाल !

बैठक में लोकगायक नेगी ने कलाकारों की एक सूची तैयार की है जो आर्थिक संकट से जूझ रहे हैं,इस लिस्ट में उन लोगों को नहीं रखा गया है जो कहीं नौकरी पर कार्यरत हैं,जो सच में मदद के हकदार हैं उन्हें ही इस लिस्ट में शामिल किया गया है,लोककलाकारों को इस आर्थिक संकट से उबारने के लिए देहरादून के प्रसिद्ध शिक्षण संस्थान बलूनी क्लासेज ने आगे आकर मदद की है और प्रथम चरण में उत्तराखंड के पैंतीस कलाकारों को एक औपचारिक कार्यक्रम में आर्थिक सहायता की है।

यह भी पढ़ें: सिनेमाघरों में रिलीज़ को तैयार है गढ़वाली फीचर फिल्म मेरु गौं ! अनलॉक का है इन्तजार !

बलूनी क्लासेज पहले भी लोककला के संरक्षण पर उत्कृष्ठ कार्य कर चुका है,संस्थापक डॉ नवीन बलूनी एवं बिपिन बलूनी का कहना है कि जो कलाकार हमारी लोकसंस्कृति को जीवित रखे हुए हैं जो अपने समाज के तमाम आयोजनों को जीवंत करते हैं जो एक आम आदमी का मनोरंजन कर उसमें नई ऊर्जा का संचार करते हैं वहीँ कलाकार इस कोरोना काल में सबसे अधिक पीड़ित हैं जो उनका हुनर है उस हुनर को दिखाने के लिए कहीं कोई मंच नहीं है ऐसी स्थति में अपने कलाकारों को बचाने की जिम्मेदारी समाज की है हम इसे अपनी जिम्मेदारी मानकर इस पहल को कर रहे हैं हमारी कोशिश है कि इसके लिए अपने समाज के सक्षम लोगों को भी जोड़ा जाए और उन्हें इस कार्य के लिए प्रोत्साहित भी किया जाए।

dehradun-garhratn-narendra-singh-negi-confirms-to-artists-crisis-of-livelihood-in-front-of-artists-watch-video

 

यह भी पढ़ें: लोकगायक गजेंद्र राणा के गीत रेशमा छोरी का वीडियो रिलीज़ !नीरज रूपा की फिर जमी जोड़ी !

कलाकारों को आर्थिक राशि प्रदान करते हुए लोकगायक नरेन्द्र सिंह नेगी ने कहा कि यह समय वाकई कलाकारों विशेष रूप से लोक कलाकारों के लिए सबसे कठिन समय है जहाँ उन्हें अपनी कला को बचाए रखना है वही अपने परिवार का भरणपोषण भी करना है और कलाकारों के जीवनयापन का जो जरिया है वह कोविड 19 के कारण एकदम ठप्प है ऐसी स्थितियों में कला और कलाकार को बचाने की जो कोशिशें बलूनी क्लासेज जैसी संस्थाओं द्वारा की जा रही हैं वे बहुत ही महत्वपूर्ण हैं उन्होंने कलाकारों की ओर से भी आर्थिक सहायता करने वाली संस्था का आभार व्यक्त किया इस कार्यक्रम का संचालन गणेश खुगशाल गणी ने किया।

यह भी पढ़ें: लोकगायक अनिल बिष्ट करेंगे उत्तराखंड का पहला डिजिटल लाइव शो ! श्रोताओं की फरमाइश होगी पूरी

एक तरफ जहाँ निजी संस्थाएं कलाकारों के दर्द को समझ रही हैं वहीँ सूबे की सरकार अपने कागजी विकास कार्यों में ही व्यस्त है,ऐसा सौतेला व्यवहार राज्य के कलाकारों की कला का अपमान है।बैठक में गीता उनियाल,मिनी उनियाल,शैलेन्द्र पटवाल ,नीलम तोमर थापा,विनोद चौहान,अब्बू रावत,महेश सहित अन्य कलाकार शामिल हुए।

देखें वीडियो:

https://www.facebook.com/watch/?v=434139260881715