गढ़रत्न नरेंद्र सिंह नेगी के गीतों को दीपक बिजल्वाण ने अंग्रेजी में किया अनुवाद !हिमालयी राग को दुनिया जानेगी !

2
492
deepak-bijalwan-translated-the-songs-of-garhratan-narendra-singh-negi-into-englishworld-now-know-about-the-stream-of-himalayan-melody

हेमवती नंदन बहुगुणा गढ़वाल विश्वविद्यालय श्रीनगर गढ़वाल के अंग्रेजी विभाग के शोधार्थी दीपक बिजल्वाण ने उत्तराखंड के गढ़रत्न नरेंद्र सिंह नेगी के गीतों को अंग्रेजी में अनुवाद किया है,उनके इस कार्य से उत्तराखंड के साहित्य को वैश्विक पहचान मिलेगी। 

लोकगायक नरेंद्र सिंह नेगी उत्तराखंड के प्रसिद्ध गीतकार एवं गायक हैं,नेगी गढ़वाल की वो आवाज हैं जिन्होंने दुःख दर्द हर्ष उल्लास पर्यावरण की सौंदयर्ता का वर्णन किया है,इनके गीतों में उत्तराखंड झलकता है,शोधार्थी दीपक बिजल्वाण ने बेहद ही शानदार विषय चुना जिसकी सराहना हर कोई कर रहा है।

यह भी पढ़ें : डांडु क्या फूल फुलला लोकगीत से रजनीकांत सेमवाल कर रहे हैं जल्द वापसी प्रोमो हुआ रिलीज़ !

उत्तराखंड का साहित्य अनमोल हैं,देवभूमि में कई कवियों साहित्यकारों का जन्म हुआ है जिन्होंने अपनी रचना से इसधरती का मान बढ़ाया है, शोधार्थी दीपक बिजल्वाण ने नरेंद्र सिंह नेगी के 40 गीतों का संकलन किया और  इनका अंग्रेजी भाषा में अनुवाद किया ,हिमालय की इस आवाज को वैश्विक पटल पर पहचान दिलाने का कार्य किया और उत्तराखंड के साहित्य को अब विश्व जान पाएगा।

यह भी पढ़ें : काजल झुमकी के बाद अब पायलिया की धूम ! अनिशा,शिवम और राज टाइगर यूट्यूब पर हिट!

लोकगायक नरेंद्र सिंह नेगी उत्तराखंड के वो व्यक्तित्व हैं जिनके बारे में कहा जाता है कि अगर उत्तराखंड दर्शन करना हो तो नेगी दा के गीत सुनो,और हकीकत भी यही है,नेगी दा ने हर उस त्यौहार,रीति रिवाज पर गीत लिखे हैं जिनसे उत्तराखंड की पहचान होती है,पर्यावरण,प्रेम,हास्य,व्यंग्य और करुणा कोई ऐसा विषय नहीं जिस पर इन्होने गीत लिखे और गाए न हों।

यह भी पढ़ें : धनराज और अनिशा की आवाज में रौंसल्या ज्वानी गीत यूट्यूब पर रिलीज़ !

नरेंद्र सिंह नेगी के योगदान को दीपक बिजल्वाण ने A stream of Himalayan melody(हिमालयी राग की एक धारा)नामक पुस्तक में नेगी दा के 40 गीतों का संकलन कर के संजोया है,गीतों का अंग्रेजी भाषा में अनुवाद किया गया है।

यह भी पढ़ें : सीएम रावत के हाथों गिरात्वोली गिर गेंदुआ 2 का विमोचन !

दीपक बिजल्वाण की पुस्तक को देहरादून स्थित समय साक्ष्य प्रकाशन ने प्रकाशित किया है,अगर आप भी हिमालयी राग की धारा से तृप्त होना चाहते हैं तो आप घर बैठे इस किताब को 7579243444 इस नंबर पर संपर्क करके मंगवा सकते हैं।

 

Facebook Comments