जोलीग्रांट एयरपोर्ट पर मंडरा रहा खतरा, पढ़े रिपोर्ट

0
300

jolly grant airport

जौलीग्रांट एयरपोर्ट के रनवे पर गीदड़, तेंदुआ, हिरण व अन्य जंगली जानवर आ जा रहे हैं। कई बार तो विमानों के टेक ऑफ और लैंडिंग करते वक्त भी जंगली जानवर रनवे तक आ रहे हैं। ऐसे में हादसे का खतरा बना हुआ है। भारतीय विमानपत्तन प्राधिकरण ने इस मामले में वन विभाग को पत्र लिखकर जंगली जानवरों को एयरपोर्ट की ओर घुसने से रोकने के इंतजाम करने के लिए कहा है। देहरादून-ऋषिकेश मार्ग पर जौलीग्रांट एयरपोर्ट दो तरफ से जंगल से सटा है। जंगल की ओर वाले हिस्से पर सिर्फ तारबाड़ है, ऐसे में कई बार जंगली-जानवर इसे पार कर एयरपोर्ट के रनवे तक पहुंच जा रहे हैं। इससे पायलट को टेक ऑफ और लैंडिंग करने में दिक्कत आ रही है। ऐसे में हादसे का डर भी बना रहता है। खुद पालयट भी कई बार प्राधिकरण को इसकी शिकायत कर चुके हैं। प्राधिकरण ने भी इसे लेकर वन विभाग को पत्र लिखा है। इसमें पुराने पत्रों का भी हवाला दिया है कि रनवे या एयरपोर्ट के आसपास गीदड़ व अन्य जंगली जानवरों के आने से हवाई जहाज और यात्रियों को हानि होने की आशंका है। बीते कुछ दिनों में रनवे पर कई बार गीदड़ों को देखा गया है। जौलीग्रांट एयरपोर्ट पर रोजाना 20 फ्लाइट आती-जाती हैं।

Malang Trailer: फिल्म ‘मलंग’ का ट्रेलर रिलीज, आदित्य और दिशा पाटनी की दिखी बेहतरीन कैमिस्ट्री

एयरपोर्ट के आसपास वन विभाग की ओर से कुछ महीने पहले लगाए गे पिंजरे में चार गीदड़ फंसे थे। लेकिन गीदड़ों की संख्या अधिक होने के कारण आए दिन रनवे और एयरपोर्ट पर गीदड़ आने लगे हैं। एयरपोर्ट के आसपास गीदड़ों ने कई डेरे बनाए हुए हैं। वन विभाग के एक अधिकारी ने बताया कि क्षेत्र में गीदड़ों ने यहां बिल बनाए हैं, जिनमें जाल लगाया गया है। लेकिन बिल अधिक होन के कारण गीदड़ों का आतंक कम नहीं हो रहा है।

खुद को चुनौती देना चाहती हैं दीपिका पादुकोण, जानिए वजह

वन विभाग की रेस्क्यू टीम ने एयरपोर्ट का सर्वे कर लिया है। इस संबंध में उनके अधिकारियों से लगातार बात हो रही है। जंगली जानवरों को पकड़ने के लिए जाल लगाने की भी मांग की है। इस संबंध में विभाग की ओर कार्रवाई की जा रही है। एयरपोर्ट के आसपास पिंजरे लगाए जाएंगे। पहले भी रेस्क्यू टीम की ओर से दो-तीन गीदड़ों को पकड़ा गया था। लगातार जांच भी की जा रही है।

गढ़वाली वीडियो देखने के लिए यहां क्लिक करें

Facebook Comments