चारधाम यात्रा के दौरान इन बातों का रखें खास ख्याल

0
330

चारधाम यात्रा शुरू हो चुकी है। देश – विदेश से श्रद्धालु गंगोत्री – यमुनोत्री और बद्रीनाथ – केदारनाथ पहुंच रहे हैं। यूं तो चारधाम यात्रा हर साल अप्रैल या मई के महीने में शुरू होती है और अक्टूबर-नवंबर में खत्म हो जाती है। लेकिन सितंबर का महीना इस यात्रा का पीक सीजन होता है क्योंकि जून से अगस्त के बीच इस इलाके में भारी बारिश होती है, जिसकी वजह से तीर्थ यात्रियों को भारी परेशानियों का सामना करना पड़ता है और इस साल तो ऑलवेदर रोड़ का निर्माण कार्य चल रहा है तो भी थोड़ी दिक्कत हो सकती है।

सितंबर का महीना चारधाम यात्रा पर जाने का सबसे बेस्ट समय है क्योंकि बारिश के बाद पूरी घाटी धुली हुई और फ्रेश हो जाती है। चारों तरफ हरियाली नजर आने लगती है और यहां की प्राकृतिक खूबसूरती देखते ही बनती है।

रिलीज़ होते ही सुर्खियों में प्रियंका महर का रणसिंघा बाजे ! दर्शकों को पसंद आया पहाड़ी रिफिक्स वर्जन !! देखें वीडियो

चारधाम यात्रा करते वक्त या फिर आप उत्तराखंड के किसी हिल एरिया में ट्रैवल करने आ रहे हैं तो कुछ बातों का ख्याल जरूर रखें।

जैसे- अपनी जरूरी दवाईयां साथ रखें क्योंकि पहाड़ो में आपको आसानी से दवाई की दुकान नहीं मिलेगी।दूसरा अपने साथ सामान्य परेशानियों जैसे पेट दर्द, उल्टी, सिरदर्द, बुखार की
दवा के अलावा क्रीम और पेनरिलीफ स्प्रे भी साथ रखना ना भूलें।
– पहाड़ी रुट पर अक्सर उल्टी आना और सिर घुमना आम बात है, इसलिए अपने खान – पान का ध्यान रखें।
– यात्रा के दौरान गर्म और ऊनी कपड़े साथ रखें क्योंकि इस क्षेत्र का मौसम हमेशा ठंडा रहता है और ऊंचाई पर तो ठंड ज्यादा बढ़ जाती है।
– इसके अलावा एक अच्छा टॉर्च भी साथ जरूर रखें।

The Voice India के विजेता पवनदीप ने गाया कुमाउनी चैती गीत ‘रितु रैणा !! ऐसे गीत जो अब सुनाई नहीं पड़ते !

– हो सके तो चारधाम की यात्रा अकेले करने की बजाए दोस्तों और रिश्तेदारों के साथ करें क्योंकि रूट चैलेंजिंग होने की वजह से मुश्किलों का सामना करना पड़ सकता है। इसी कड़ी में हम आपको आगे चारधाम के बारे में सभी छोटी – बड़ी जानकारियां देते रहेंगे। इसलिए आज ही हिलीवुड़ के यूट्यूब चैनल को सब्रसक्राइब करें और फेसबुक पेज पर लाइक करें।

Facebook Comments