ममता थपलियाल का बालू कन्हैया गढ़वाली भजन सुना जा रहा देवभूमि के घर- घर में आप भी सुनिए ये मधुर भजन

0
823
mamta thapliyal new

उत्तराखण्डी लोकगायिका ममता थपलियाल के गढ़वाली भजन बालू कन्हैया जिसमें भगवान् कृष्ण के बाल रूप का वर्णन किया गया है भजन इतना मार्मिक है कि श्रोताओं के मन में बस गया है। भगवान् की पूजा अर्चना के दौरान भजन की मधुर ध्वनि हर घर में सुनाई दे रही है। अब तक 1 मिलियन से ज्यादा हिट्स मिल चुके हैं

उत्तराखंड में पलायन की स्थिति को बयां करता गीत “पीड़ा मेरा पहाड़ की” देखिये क्या है इसमें खास

उत्तराखण्ड के प्रोडक्शन हाउस हार्दिक फिल्म्स के यूट्यूब चैनल पर बालू कन्हैया भजन रिलीज़ हुआ है। जिसे दर्शकों ने बहुत पसंद किया और अभी तक गढ़वाली भजन पर 1 मिलियन से अधिक व्यूज आ चुके हैं इससे अंदाजा लगाया जा सकता है कि गढ़वाली भजन सुनने वालों की संख्या भी बहुत है। ममता थपलियाल इसके अलावा चला भक्तों ज्वाल्पा मंदिर जयोला भजन भी गए चुकी हैं जो भी काफी दर्शकों ने पसंद किया है।

“आंदि जांदी सांस ” एक गीत नहीं उत्तराखंड प्रवासियों को सन्देश

अमित वी कपूर ने भजन को कर्णप्रिय संगीत दिया है जो भक्तों को सुनने में काफी भक्तिमय लगा और ममता थपलियाल की मधुर आवाज ने सभी को प्रभु की भक्ति में झूमने पर विवश किया है। आमतौर पर यूट्यूब के दर्शक भजन सुनना पसंद नहीं करते हैं खासकर जब उत्तराखण्ड संगीत जगत में डीजे सॉंग्स का प्रचलन हो और पुराने गानों को फ्यूजन का रूप देकर कम समय में फेम पाना ही गायकों का मकसद हो, उसके ठीक विपरीत गायिका ममता थपलियाल ने भजनों की और रुख किया जो कि पूरी तरह चलन से हटकर था फिर भी वह सफल रही और उनके भजन को इतनी बड़ी संख्या में सुनने वाले श्रोता मिल गए।

रेशमा छोरी गीत बना युवाओं की पहली पसंद अब तक यूट्यूब पर मिले 1 मिलियन से अधिक व्यूज

बालू कन्हैया भजन की कुछ पंक्तियाँ अपने पाठकों के लिए लिख रहे हैं भजन जरूर सुनें और अपने मन मस्तिष्क को शांति प्रदान करें।
नन्द को गोपाल छे तू , यशोधा को लाल छे तू।
फिर बजे दे मोहना नौ सुरया नौ मुरली।
HILLYWOOD NEWS
RAKESH DHIRWAN

Facebook Comments