अनिशा रांगड़ जन्मदिवस पर आशीर्वाद लेने पहुंची लाखामंडल भोले के दरबार !

1

आज उत्तराखंड की लोकप्रिय गायिका अनिशा रांगड़ का जन्मदिन है,बहुत ही कम समय में युवा गायिका अनिशा रांगड़ ने उत्तराखंड संगीत जगत में मुकाम हासिल किया है।जन्मदिन के अवसर पर अनिशा लाखामंडल शिव मंदिर पहुंची। 

anisha-ranghar-reached-the-court-of-lakhamandal-bhole-to-seek-blessings-on-his-birthday

अनिशा मूल रूप से टिहरी जिले स्थित लंबगांव प्रतापनगर क्यारी की निवासी हैं और वर्तमान में ऋषिकेश में निवास करती हैं,अनिशा गायन के साथ ही बीएससी की पढाई भी कर रही हैं,अनिशा का सफर काफी शानदार रहा शुरूआती दौर में कोरस से अपनी गायिकी की शुरुआत करने वाली अनिशा ने अब तक 300 से भी अधिक गीतों को आवाज दी है।

यह भी पढ़ें: युवा गायक अन्नू बडुडी ने की माँ राजराजेश्वरी बाल कुंवारी की स्तुति ! पौड़ी जिले में विराजमान हैं माता बालकुंवारी!

अनिशा जीवन के 20 वें वसंत में प्रवेश कर चुकी हैं और इतनी छोटी सी उम्र में काफी प्रसिद्धि पा चुकी हैं,शुरूआती दो गीतों के बाद अनिशा का कैन भरमाई गीत काफी सुपरहिट हुआ जिससे ये सफर जारी रहा और आज दौर ऐसा है कि अमूमन हर दिन अनिशा का कोई न कोई गीत रिलीज़ होता रहता है,जिनमें से अधिकांश गीत सुपरहिट रहते हैं।

यह भी पढ़ें: गुंजन की गंज्याली को मिला चंडीगढ़ से खूबसूरत तोहफा !बालकलाकारों की मासूमियत ने लूटा दर्शकों का दिल !

अनिशा के करियर में परिवार का सहयोग बहुत अहम् है ,क्योंकि संगीत एक ऐसा क्षेत्र है जहाँ सफलता की सम्भावना सितारों पर निर्भर होती है लेकिन मेहनत और लगन से ही सफलता हासिल की जाती है,उत्तराखंड में अधिकांश अभिभावक बेटियों को चूल्हे चौके  तक ही सीमित रखते हैं,और बेटी का हुनर उसके दिल में ही दब जाता है,लेकिन अगर सही राह और मार्गदर्शन किया जाए तो देश की बेटियों हर कार्यक्षेत्र में अग्रणी भूमिका निभाती हैं।

यह भी पढ़ें: लोकगायक अनिल बिष्ट करेंगे उत्तराखंड का पहला डिजिटल लाइव शो ! श्रोताओं की फरमाइश होगी पूरी

अनिशा आज जन्मदिवस के अवसर पर जौनसार बावर के लाखामंडल शिव मंदिर दर्शनों को गई और भगवान् शिव के दर्शन किए लाखामंडल शिव मंदिर काफी प्राचीन शिव मंदिर है और यहाँ दर्शन मात्र से ही भक्तों के सभी दुर्भाग्य दूर होते हैं,लाखामंडल दो शब्दों से मिलकर बना है लाखा का अर्थ है लाख(कई) और मंडल का अर्थ है मंदिर या लिंगम।

यह भी पढ़ें: 1 करोड़ दर्शकों की पसंद बना गढ़वाली गीत हुलिया !संजय भंडारी और अनिशा रांगड़ रच रहे इतिहास !

लाखामंडल मंदिर परिसर में दानव और मानव की मूर्तियाँ मुख्य द्वार पर द्वारपाल रूप में स्थित हैं,स्थानीय वासियों के अनुसार महाभारत काल में दुर्योधन ने शंख आकर में निर्मित लाक्षागृह में भास्कर को जलाने की साजिश रची थी,दानव और मानव की जुड़वां मूर्तियां मंदिर के प्रांगण में जीवन और मृत्यु का सन्देश देती हैं,स्थानीय लोग इन्हें पांडव पुत्र भीम और अर्जुन मानते हैं जबकि जगत पालक विष्णु नारायण के जय और विजय से भी मूर्तियां मिलती जुलती हैं।

 

यह भी पढ़ें: सीएम त्रिवेंद्र रावत से मिली अभिनेत्री भाग्यश्री ,फिल्म सिटी को लेकर हुई चर्चा !

हिलीवुड न्यूज़ उत्तराखंड की लोकप्रिय गायिका अनिशा रांगड़ को जन्मदिन की ढेरों शुभकामनाएँ देता है और श्री केदार से उज्जवल भविष्य की कामना करता है।

हाल ही में अनिशा रांगड़ और संजय भंडारी की आवाज में गजरा गीत रिलीज़ हुआ है आप भी इसका आनंद लीजिए।

 

 

 

Exit mobile version