“आंदि जांदी सांस ” एक गीत नहीं उत्तराखंड प्रवासियों को सन्देश

0
804
Aandi Jandi Saans

एक ऐसी पहाड़ी की प्रेम कहानी जिसे वीडियो के माध्यम से दर्शकों तक हार्दिक फिल्म्स के यूट्यूब चैनल पर दिखाया जा रहा है। इस गीत को बहुत पहले
गढ़रत्न नरेंद्र सिंह नेगी ने फिल्म तेरी सौं में गाया था। “आंदि जांदी सांस छे तू मेरा जीना की आस छे तू ” इस खूबसूरत गीत को लिखा है मदन डुकलान जी ने अक्सर इस गीत को हम गुनाते गुनाते रहते हैं |

रेशमा छोरी गीत बना युवाओं की पहली पसंद अब तक यूट्यूब पर मिले 1 मिलियन से अधिक व्यूज

एक बार फिर से अमित वी कपूर ने इस गीत को जीवित कर दिया है इसका कवर बनाकर, इसको नया रूप देकर अमित वी कपूर की आवाज और उन्हीं के संगीत से सजा ये गीत पहाड़ की बर्फीली वादियों में फिल्माया गया है | ये तो था गीत का परिचय अब आपको इसकी विशेषता बताते हैं क्यों ये इतना खास बना ,दरअसल ये मात्र एक गीत नहीं बल्कि समाज के लिए सन्देश है गीत में एक प्रेमी जोड़े को दिखाया गया है जिसमे अमित वी कपूर और शिल्पा वर्मा मुख्य भूमिका में हैं ,गीत के शुरुवात में ही आपको देखने को मिल जाएगा लड़की अपने सपनो को पूरा करने के लिए दूर विदेश जा रही है और अपने प्रेमी से भेंट करने आई है यूँ कहे सी ऑफ करने जा रहा है लड़का इसी बीच लड़की के मन में जाने से पहले पहाड़ घूमने की इच्छा होती है और लड़का कहता है पूरी जिंदगी तुम्हारे नाम कर दी एक दिन और सही।

यसी जुडी तेरी माया से रचिता कुकरेती ने की वापसी – स्वर्गीय पप्पू कार्की ने दी है आवाज़

फिर घूमते फिरते जब लौटने का समय आता है तो लड़की का सवाल तुम भी चल लो मेरे साथ यहाँ पहाड़ों में क्या रखा है पर पहाड़ प्रेम लड़के को कहीं जाने की अनुमति नहीं देता और बोल पड़ता है ” मैं अप्डू यू पहाड़ अप्डू यू मुल्क कभी नी छोड़ी सकदु” और तुम कभी नहीं समझोगी | ये संवाद वीडियो में पहाड़ प्रेम को दर्शाता है।
और सच भी है अपनी मिटटी जैसी खुशबू कहीं और नहीं आ सकती चाहे आप कितनी भी तरक्की हासिल कर लो पहाड़ से दूर नहीं हो सकते। वीडियो के माध्यम से उन परवाशियों पर कटाक्ष किया गया है जो कहते तो हैं हम गढ़वाली हैं पर उन्हें वास्तव में गढ़वाल से प्रेम है भी या नहीं ये सोचने का विषय है।
बधाई के पात्र हैं अमित वी कपूर जिन्होंने इस विषयवस्तु पर इस सुन्दर गीत को फिल्माया और उत्तराखंड के लोगों को यहाँ से जोड़ने का काम किया है

Facebook Comments