विश्व प्रसिद्ध है ये फूलों की घाटी, जहां हर चीज लगती है खूबसूरत सपना

0
188

भारतीय राज्य उत्तराखंड में स्थित फूलों की घाटी अपने फूलों, हरियाली और स्वच्छ वातावरण के लिए विश्व विख्यात है, अंग्रेजी में Valley of Flowers के नाम से जाना जाता है, Valley of Flowers Trek हिमालय में भारत के सबसे लोकप्रिय ट्रेक में से एक है, जहां की खूबसूरती का लुफ्त उठाने के लिए लोग सालों साल इंतजार भी करते हैं.

यह भी पढ़ें: जानिए भगवान शिव और पार्वती के विवाह स्थल त्रियुगीनारायण मंदिर से जुड़ी खास मान्यतायें

समुद्रतल से 12995 फीट की ऊंचाई और 87.5 वर्ग किमी क्षेत्र में फैली विश्व धरोहर फूलों की घाटी में जहां प्रतिवर्ष भारी संख्या में पर्याटक पहुंचते हैं, फूलों की घाटी की खोज का श्रेय ब्रिटिश पर्वतारोही फ्रैंक एस स्मिथे, आर एल होलड्सवर्थ और एरिक शिप्टन को जाता है, जो 1931 में माउंट केमेट के एक सफल अभियान के बाद संयोग से इस घाटी में पहुंच गए थे, स्मिथे ने 1938 में “द वैली ऑफ फ्लावर्स” पुस्तक लिखी.

यह भी पढ़ें: उत्तराखंड का वो रहस्यमयी मंदिर, जहां हर दिन होता है चमत्कार, यहां जाने विस्तार से

इस स्थान की सुंदरता से आकर्षित होकर उन्होंने इसे “फूलों की घाटी” का नाम दिया, वैली ऑफ फ्लावर्स में कई अलग-अलग रंग के फूल हैं, जो समय के साथ-साथ रंगों के विभिन्न रंगों को ले जा रहे हैं, 1982 में घाटी को राष्ट्रीय उद्यान घोषित किया गया था और अब यह एक विश्व धरोहर स्थल है.

यह भी पढ़ें: आस्था का प्रतीक माँ सुरकंडा देवी मंदिर , पढ़े ये खास रिपोर्ट

(Valley of Flowers) हर वर्ष एक जून से 31 अक्टूबर तक पर्यटकों के लिए खुली रहती है, फूलों की घाटी भ्रमण के लिये जुलाई, अगस्त व सितंबर के महीनों को सर्वोत्तम माना जाता है, सितंबर में ब्रह्मकमल खिलते हैं, घाटी में 500 से अधिक प्रजाति के रंग-विरंगे फूल खिलते हैं, साथ ही दुर्लभ प्रजाति के जीव-जंतु, वनस्पति व जड़ी-बूटियों का भी यहां भंडार है, घाटी में कस्तूरी मृग, मोनाल, हिमालयन काला भालू, हिम तेंदुआ आदि के भी प्राकृतिक आवास हैं.

यह भी पढ़ें: उत्तराखंड के ऊखीमठ का ओंकारेश्वर मंदिर, जानिए क्यों शिव भक्तों के लिए खास है ये जगह

बता दें फूलों की घाटी गढ़वाल क्षेत्र में जोशीमठ के पास भुइंदर गंगा के ऊपरी विस्तार में स्थित है, गोबिंदघाट के पास भुइंदर गंगा की निचली पहुंच को भुइंदर घाटी के नाम से जाना जाता है, फूलों की घाटी नंदादेवी पार्क से 23 किमी उत्तर-उत्तर पश्चिम में पुष्पवती घाटी में है, संपूर्ण नंदा देवी बायोस्फीयर रिजर्व पश्चिमी हिमालय एंडेमिक बर्ड एरिया (EBA) के भीतर स्थित है, वैली ऑफ फ्लावर्स नेशनल पार्क नंदा देवी बायोस्फीयर रिजर्व का दूसरा मुख्य क्षेत्र है, EBA के इस हिस्से में सात प्रतिबंधित-रेंज पक्षी प्रजातियां स्थानिक हैं.

उत्तराखंड संगीत एवं फिल्म जगत की सभी ख़बरों को विस्तार से देखने के लिए हिलीवुड न्यूज़ को यूट्यूब पर सब्सक्राइब करें।