नौ साल बाद उत्तराखंड की रक्षक धारी देवी मां अपने मंदिर में होंगी विराजमान

0

उत्तराखंड की रक्षक मानी जानी वाली धारी देवी आखिरकार अपने मंदिर में विराजने वाली हैं, मंदिर के पुजारी न्यास की ओर से 28 जनवरी स्थानांतरण तिथि निर्धारित की गई है.

यह भी पढ़ें: रुद्रप्रयाग की श्रेया ने ARS EXAM में पहला स्थान हासिल कर बढ़ाया पहाड़ का मान

उत्तराखंडवासी लंबे समय से धारी देवी की प्रतिमा को नए मंदिर में स्थापित करने का इंतजार कर रहे थे, बता दें श्रीनगर जल विद्युत परियोजना के निर्माण के बाद यह डूब क्षेत्र में आ रहा था। इसके लिए इसी स्थान पर परियोजना संचालन कर रही कंपनी की ओर से पिलर खड़े कर मंदिर का निर्माण कराया जा रहा था, लेकिन जून 2013 में, केदारनाथ में बाढ़ के कारण अलकनंदा नदी का जल स्तर बढ़ने की वजह से मूर्तियों को उठाना पड़ा। पिछले नौ सालों से इस अस्थायी स्थान पर मूर्तियां विराजमान हैं.

यह भी पढ़ें: UKPSC की दो भर्ती परीक्षाओं को मिली क्लीन चिट

पुजारी न्यास के सचिव जगदंबा प्रसाद पांडे का कहना हैं कि धारी देवी, भैरवनाथ और नंदी की मूर्तियों को अस्थायी स्थान से 28 जनवरी की सुबह शुभ मुहूर्त में मंदिर परिसर में स्थानांतरित कर दिया जाएगा। इस दिन सुबह 9.30 बजे के बाद मंदिर दर्शनार्थियों के लिए खोला जाएगा.

हिलीवुड न्यूज़ की ताजातरीन जानकारियों के लिए जुड़े रहिए साथ ही वीडियो रिव्यु एवं अन्य जानकारी यूट्यूब पर भी देखिए 

Exit mobile version