कंप्यूटर पर ज्यादा वक्त बिताने से जा सकती है आंखों की रोशनी, यहां पढ़ें उपाय।

0
90
कंप्यूटर पर ज्यादा वक्त बिताने से जा सकती है आंखों की रोशनी, यहां पढ़ें उपाय।

आज हम में से कई लोग कंप्यूटर पर अपना पूरा दिन व्यतीत करते हैं, लेकिन क्या आपको पता है, कंप्यूटर पर ज्यादा देर तक काम करने के गंभीर नतीजे हो सकते हैं, जिनके बारे में हम आगे बात करने वाले हैं.

यह भी पढ़ें: गर्मियों में ऐसें करें अपनी स्किन की देखभाल, हमेशा ग्लो करेगी स्किन।

आज हर क्षेत्र में कंप्यूटर अपनी बहुत बड़ी भूमिका निभा रहा है, फिर चाहे नौकरी, व्यापार, हॉस्पिटल, दुकानें, स्कूल या फिर घर ही क्यो ना हो, हर जगह कंप्यूटर(Computer) की भूमिका अहम है, जिसकी वजह से आज हर कोई लंबे समय तक मोबाइल और लैपटॉप से चिपके रहते हैं,लेकिन क्या आपको पता है यह हमारी आखों के लिए कितना नुकसानदायक हो सकता है, जी हां कंप्यूटर और मोबाइल स्क्रीन पर बढ़ता समय अपकी आखों को कई समस्याओं से जूझने पर मजबूर कर सकता है.

यह भी पढ़ें: जानिए आंख क्यों फड़फड़ाती है ? क्या है उपाय !

विशेषज्ञों के अनुसार,कंप्यूटर, लैपटॉप या फिर मोबाइल(Mobile) से निकलने वाली ब्लू रेज के कारण आंखों में सूखापन आ जाता है, स्क्रीन पर बीतने वाले अधिक समय के कारण होने वाली आंखों की समस्या को मेडिकल की भाषा में ‘डिजिटल आई स्ट्रेन’ के नाम से जाना जाता है, आमतौर पर इस समस्या पर हम ज्यादा ध्यान नहीं देते हैं, लेकिन एक बार जब यह बढ़ने लगती है तो इसके कारण कई तरह की गंभीर दिक्कतें हो सकती हैं.

यह भी पढ़ें: नमक आपकी सेहत के लिए हो सकता है नुकसानदायक, पढ़िए इसके साइड इफेक्ट्स।

उपाय:

  • आंखें बहुत नाजुक होती हैं, बहुत देर तक किसी भी चीज को देखने पर इनमें दर्द हो सकता है, ऐसे में 20-20-20 नियम का पालन करें, यदि आप स्क्रीन को 20 मिनट तक देखते हैं, तो थोड़ी देर बाद आपको 20 सेकंड के लिए कम से कम 20 फीट दूर ऐसी चीज देखनी चाहिए जिससे आंखों की मांसपेशियां रिलेक्स्ड हों.
  • कंप्यूटर पर काम करने के लिए एक खास चश्‍मा आता है, जिसमें एंटी-लेयर ग्‍लास होते है, इससे आपकी आंखों की रोशनी पर दुष्प्रभाव नही पड़ेगा और आंखें हमेशा स्वस्थ रहेगी, जिन लोगों को अधिक समय तक स्क्रीन के सामने बैठने का काम पड़ता है, उन्हें इसका उपयोग जरुर करना चाहिए.
  • कंप्यूटर पर काम करते समय, थोड़ी-थोड़ी देर पर अपने पलकों को झपकाते रहने की आदत डालें, इससे आंखों में पर्याप्त नमी बनी रहती है और ड्राई आइज की समस्या का जोखिम कम हो जाता है, पलकों को झपकाते रहने से आखों को आराम भी मिलता है जिससे मांसपेशियों पर पड़ रहा अतिरिक्त दबाव कम हो जाता है.
  • कंप्यूटर कि स्क्रीन कलर को कंट्रास्‍ट रखें, फॉन्‍ट को गहरा और बैकग्राउंड हल्के रंग का रखे जिससे आँखों पर अधिक ज़ोर नही पड़ेगा.

उत्तराखंड फिल्म एवं संगीत जगत की सभी ख़बरों को विस्तार से देखने के लिए हिलीवुड न्यूज़ को यूट्यूब पर सब्सक्राइब करें।