उत्तराखंड का ऐसा गायक जो देख नहीं सकता लेकिन सुर लाजवाब,सुनिए ये जागर।

0
138
19877-2such-a-singer-from-uttarakhand-who-cannot-see-but-the-tone-is-amazing

उत्तराखंड के संगीत जगत में एक कलाकार ऐसा भी है जिसे ईश्वर ने भले ही आँखों की रोशनी ना दी हो,लेकिन उन्हें वो आवाज दे दी जिसे सुनकर कोई भी मंत्रमुग्ध हो जाए,हम बात कर रहे हैं कुमाउनी लोकगायक पूरन सिंह राठौर की जिन्हें लोकसंगीत की काफी अच्छी समझ है,झोड़ा,छपेली,लोकगीतों,न्योली,भगनौल,जागरों को पूरन सिंह राठौर काफी बेहतरीन अंदाज में गाते हैं। 

19877-2such-a-singer-from-uttarakhand-who-cannot-see-but-the-tone-is-amazing

 

यह भी पढ़ें: अपने पहले ही गीत से चर्चाओं में नरेश मवान,श्रोताओं बोले गजब की गायिकी।

हाल ही में गिंजयाली फिल्म्स के बैनर तले कुमाउनी लोकगायक पूरन सिंह राठौर का गोलू देवता जागर रिलीज़ हुआ है,बागेश्वर के रहने वाले पूरन सिंह राठौर उत्तराखंड के लोकसंगीत के संरक्षण में अपनी अहम भूमिका निभा रहे हैं,यहाँ के पारम्परिक लोकगीतों को पूरन सिंह राठौर कई मंचों पर गाकर आम श्रोता को इनसे रूबरू करवाने का काम कर रहे हैं।

यह भी पढ़ें: अपने पहले ही गीत से चर्चाओं में नरेश मवान,श्रोताओं बोले गजब की गायिकी। 

कथा नरसिंघ अवतार,कानों में झुमका के अलावा पूरन सिंह राठौर के नंदा हिमाल द दिग लाली को दर्शकों ने खूब पसंद किया,पहाड़ी फोल्क की खनक इनकी आवाज में सुनाई देती है।भगनौल,जागर,न्यौली,झोड़ा,छपेली गाने के साथ ही पूरन सिंघ राठौर समाज पर कटाक्ष करते गीत भी गाए हैं,पहाड़ों में पहले द्वी दिवसीय बारात का रिवाज था जो अब पूरी तरह खत्म हो गया है इसी पर आधारित इनका वन डे बारात काफी सुपरहिट हुआ,इसके अलावा इनका कलयुग का लोग गीत भी वर्तमान हालातों को साकार करता है।

यह भी पढ़ें: प्रीतम भरतवाण का नया गीत आपको कराएगा पहाड़ी होने पर गर्व,हुआ रिलीज़।

न्याय के देवता कहे जाने वाले कुमाऊं के प्रसिद्ध गोलू देवता पर आधारित जागर को पूरन सिंह राठौर ने अपने हुड़के की थाप पर गाया है,गायन के साथ ही पूरन सिंह राठौर कई वाद्य यंत्रों को भी बजाने में पारंगत हैं।गोलू देवता को गोल्ज्यू देवता भी कहा जाता है।न्याय के देवता कहे जाने वाले गोल्ज्यू देवता के दर पर जो भी न्याय की अर्जी लगाता है उसका समाधान गोलू देवता जरूर करते हैं,कुमाऊं के इष्ट देव माने जाने वाले गोलू देवता के मंदिर में श्रद्धालु चिठ्ठी लिखकर अपनी मनोकामना की अर्जी लगाते हैं।गोलू देवता का मंदिर अल्मोड़ा के चेतई में स्थित है।

सुनिए पूरन सिंह राठौर की आवाज में गोलू देबता जागर। 

 

उत्तराखंड फिल्म एवं संगीत जगत की सभी ख़बरों को विस्तार से देखने के लिए हिलीवुड न्यूज़ को यूट्यूब पर सब्सक्राइब करें।