लोकभाषा के संरक्षण में सराहनीय कदम ,मनमोहन गौनियाल ने रची माँगलिक शैली में सरस्वती वंदना।

0
245

किसी भी व्यक्ति के जीवन में प्राथमिक शिक्षा का अहम् योगदान होता है,और व्यक्तित्व विकास की पहली नींव यहीं से रखी जाती है,विद्यालयों में होने वाली सरस्वती वंदना से हर दिन की शुरुआत होती है इसमें अब एक खुश-खबरी है कि पहाड़ के नौनिहाल अब इसे अपनी लोकभाषा में गा सकेंगे,माँगलिक शैली में प्रथम उत्तराखंडी सरस्वती वंदना यूट्यूब पर उपलबध है। 

19168-2commendable-steps-in-preservation-of-lingua-franca-manmohan-gouniyal-composed-saraswati-vandana-in-the-manglik-style

 

यह भी पढ़ें: ‘जय धारी की माँ’ गढ़वाली भजन को यूट्यूब पर मिले 1 मिलियन व्यूज।

माँगलिक शैली में सरस्वती वंदना को मनमोहन गौनियाल ने रचा एवं स्वर दिए हैं,इसे संगीत से प्रसिद्ध संगीतकार रणजीत सिंह ने सजाया है,मनमोहन गौनियाल मनु ऑफिसियल से गढ़वाली सरस्वती वंदना को रिलीज़ किया गया है।मनमोहन स्वयं पेशे से शिक्षक हैं एवं उनका लोकभाषा के संरक्षण के प्रति ये प्रयास सराहनीय है।

यह भी पढ़ें: उत्तराखंड संगीत की ये जोड़ी आज भी सुपरहिट,रिलीज़ हुआ नया गीत।

मनमोहन गौनियाल एक तरफ नौनिहालों को शिक्षा भी देते हैं तो वहीँ विगत कई वर्षों से उत्तराखंडी संगीत के प्रति भी समर्पित हैं,इनके गाए हुए कई गीत यूट्यूब पर खूब धमाल मचाते हैं,रूडी बौ,चंद्रा छोरी,और सुपरहिट गीत सुमन ना ह्वेई नाराज जैसे कई सुपरहिट गीतों को आवाज दे चुके हैं।

यह भी पढ़ें: कमल धनाई के नए गीत ने मचाया धमाल,जमकर हो रहा वायरल।

मनमोहन गौनियाल के इस प्रयास की हर कोई प्रसंशा कर रहा है और लोकभाषा के संरक्षण में इसको अहम योगदान बता रहा है,जिसके लिए मनमोहन बधाई के पात्र हैं।अब इस सरस्वती वंदना को कई विद्यालयों में भी गाया जाएगा जिससे पहाड़ के नौनिहालों को अपनी लोकभाषा से जुड़ने का अवसर मिलेगा,और माँगल शैली से भी विद्यार्थी बचपन से ही अवगत होंगे।

यह भी पढ़ें: ड्राईवर बणिगे गढ़वाली गीत ने मचाया धमाल,यूट्यूब पर बटोरे 1 लाख व्यूज।

आप भी जरूर सुनिए माँगलिक शैली में ये सरस्वती वंदना।

उत्तराखंड फिल्म एवं संगीत जगत की सभी ख़बरों को विस्तार से देखने के लिए हिलीवुड न्यूज़ को यूट्यूब पर सब्सक्राइब करें। 

Facebook Comments