उत्तराखंड के पारंपरिक वाद्य यंत्र कलाकारों के लिए जल्द आयोजित होगी प्रतियोगिता, पढे़ं रिपोर्ट।

0
505
उत्तराखंड के पारंपरिक वाद्य यंत्र कलाकारों के लिए जल्द आयोजित होगी प्रतियोगिता, पढे़ं रिपोर्ट।

उत्तराखंड के लोक कलाकारों को एक बार फिर सरकार आर्थिक रूप से मजबूती देने के लिए जल्द प्रतियोगिता का आयोजन किया जाएगा. जिसके तहत प्रदेश के संस्कृति एवं पर्यटन मंत्री सतपाल महाराज लोक कलाकारों के लिए ऑनलाइन मंच तैयार करने को लेकर संस्कृति विभाग के महानिदेशक आशीष चौहान को निर्देशित कर चुके हैं.

यह भी पढे़ं: पिंकी जोशी के स्वरों से सजे जय धारी की मां भजन सुपरहिट,यूट्यूब पर 8 लाख व्यूज पार।

कोरोना संक्रमण के दौरान पिछले साल भारी आर्थिक नुकसान झेल चुके हैं. प्रदेश के लोक कलाकारों को एक बार फिर सरकार आर्थिक रूप से मजबूती देने का प्रयास कर रही है. जिसके तहत प्रदेश के संस्कृति एवं पर्यटन मंत्री सतपाल महाराज लोक कलाकारों के लिए ऑनलाइन मंच तैयार करने को लेकर संस्कृति विभाग के महानिदेशक आशीष चौहान को निर्देशित कर चुके हैं.

यह भी पढे़ं: उत्तराखंड में धूम मचाने वाला वीडियो गीत गजरा सुपरहिट,कम समय में यूट्यूब पर मिलियन व्यूज पार, पढ़ें रिपोर्ट।

वहीं प्रदेश के कुछ समाजसेवी भी कलाकारों के सहयोग के लिए अलग-अलग तरिके से प्रोत्साहित करने का प्रयास कर रहे हैं. जानकारी के मुताबिक समाजसेवी औऱ देहरादून के जाने-माने वरिष्ठ फिजीशियन डॉ केपी जोशी आगामी अप्रैल माह में लोक कलाकारों को पहचान दिलाने के लिए एक विशेष प्रतियोगिता के आयोजन कराने वाले हैं. यह प्रतियोगिता पारंपरिक वाद्य यंत्र कलाकारों के लिए की जाएगी. यही नहीं प्रतियोगिता में प्रथम,द्वितीय औऱ तृतीया स्थान प्राप्त करने वाले प्रतिभागियों को प्रोत्साहन राशि से सम्मानित किया जाएगा.

यह भी पढ़ें:  झुम्पा कैल तोड़ा गढ़वाली गीत रिलीज, बाल कलाकारों अपने हुनर से जीता दर्शकों का दिल, पढ़ें रिपोर्ट।

डॉ. जोशी ने बताया कि पारंपरिक वाद्य यंत्र कलाकारों की यह प्रतियोगिता राज्यस्तरीय होगी. वहीं इसका आयोजन राजधानी देहरादून में किया जाएगा. इस प्रतियोगिता के लिए प्रदेश के सभी 13 जनपदों से 5-5 पारंपरिक वाद्य यंत्र वादकों को चयनित किया जाएगा. प्रतियोगिता में प्रथम द्वितीय और तृतीय स्थान हासिल करने वाले पारंपरिक वाद्य यंत्र वादकों को 51,000 हजार, 21,000 और 11,000 रुपए की धनराशि से सम्मानित किया जाएगा. साथ ही राज्य सरकार और अन्य समाजसेवी संस्थाओं की सहायता से कलाकारों की यह प्रतियोगिता राज्यस्तरीय होगी. इस प्रतियोगिता का आयोजन राजधानी देहरादून में किया जाएगा. इस प्रतियोगिता के लिए प्रदेश के सभी 13 जनपदों से 5-5 पारंपरिक वाद्य यंत्र वादकों को चयनित किया जाएगा.

यह भी पढे़ं: आरती सकलानी के स्वरों से सजे गीत ठंडो पाणी का टीजर रिलीज,एक बार फिर जमी नागेंद्र प्रसाद और साक्षी की जोड़ी।

बता दें कि प्रदेश के कलाकारों को संस्कृति विभाग की ओर से अब तक मानदेय औऱ अन्य बिलों का भुगतान नहीं किया गया है. जिसे लेकर संस्कृति एवं पर्यटन मंत्री सतपाल महाराज ने गहरी नाराजगी जताई है. साथ ही विभाग को आदेशित किया है. वह जल्द से जल्द लोक कलाकारों के लंबित चल रहे मानदेय और अन्य बिलों का भुगतान करें.